‘मेरे दो विपक्षी हैं, पहला मोदी सरकार और दूसरा योगी सरकार.’  

— सुब्रमण्यम स्वामी, भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सांसद

सुब्रमण्यम स्वामी का यह बयान राम मंदिर के निर्माण को लेकर आया है. उनका कहना है कि राम मंदिर को लेकर केंद्र की नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार अगर उनकी मुखालफत करती है तो वे सरकार गिरा देंगे. सुब्रमण्यम स्वामी के मुताबिक, ‘मैं जानता हूं कि ये दोनों सरकारें मेरा विरोध नहीं करेंगी और जनवरी में अगर राम मंदिर का मामला सुप्रीम कोर्ट में सूचीबद्ध हो जाता है तो निश्चय ही दो सप्ताह के भीतर हमें जीत मिल जाएगी.’

‘सर्जिकल स्ट्राइक का जरूरत से ज्यादा प्रचार ओर राजनीतिकरण किया गया’  

— डीएस हुड्डा, भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त)

डीएस हुड्डा का यह बयान सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर आया है. इसके साथ ही उनका यह भी कहना था कि अगर सेना के दृष्टिकोण से देखें तो इसकी बेहद जरूरत थी. हुड्डा के मुताबिक, ‘जम्मू-कश्मीर के उड़ी में हुए आतंकी हमले के दौरान भारत ने अनेक जवानों को खोया था. सर्जिकल स्ट्राइक के जरिये पाकिस्तान को सीख दी गई कि अगर वे हमारे इलाके में आकर हमला करेंगे तो हम भी उनके इलाके में घुसकर कहीं अधिक घातक हमलों को अंजाम दे सकते हैं.’


‘प्रधानमंत्री देश की सेना का इस्तेमाल निजी संपत्ति की तरह कर रहे हैं.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंंज कसते हुए कही है. इसके साथ ही सर्जिकल स्ट्राइक पर सेवानिवृत लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुड्डा के एक बयान पर राहुल गांधी ने एक ट्वीट में लिखा है, ‘मिस्टर 36 को देश की सेना का अपनी निजी संपत्ति की तरह इस्तेमाल करने पर शर्म नहीं आती. उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक का इस्तेमाल राजनीतिक फायदे के लिए किया जबकि रफाल विमान सौदे का अनिल अंबानी की निजी संपत्ति बढ़ाने के लिए.’


‘हम पर अमेरिका की तरफ से लगाए गए प्रतिबंध आर्थिक आतंकवाद की तरह हैं.’  

— हसन रूहानी, ईरान के राष्ट्रपति

हसन रूहानी का यह बयान ईरान के प्रति अमेरिकी नीतियों को लेकर आया है. उनके मुताबिक, ‘हम पर जी-जान से हमला किया जा रहा है जो न सिर्फ हमारी आजादी और पहचान के लिए खतरा है बल्कि इसके जरिये हमारे पुराने संबंधों को तोड़ने की कोशिश भी की जा रही है.’ हसन रूहानी के मुताबिक अमेरिकी प्रतिबंधों की वजह से ड्रग्स और आतंकवाद से लड़ने संबंधी उनकी कोशिशें भी प्रभावित हुई हैं.


‘अगर आॅस्ट्रेलियाई खिलाड़ी भी विराट कोहली की तरह जश्न मनाते तो वे दुनिया के सबसे बदतर इंसान कहलाते.’  

— जस्टिन लैंगर, आॅस्ट्रलियाई क्रिकेट टीम के कोच

जस्टिन लैंगर का यह बयान भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को लेकर आया है. उनके मुताबिक, ‘विराट कोहली क्रिकेट के सुपरस्टार और जुनूनी खिलाड़ी हैं. पर भारत-आॅस्ट्रेलिया के बीच खेले जा रहे ​टेस्ट मैच में आॅस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के आउट होने पर उन्होंने जिस अंदाज में जश्न मनाया था अगर वैसा ही कुछ आॅस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने किया होता तो उन्हें सबसे खराब खिलाड़ियों का दर्जा दे दिया गया होता. जस्टिन लैंगर के मुताबिक उन्हें आक्रामकता और जुनून पसंद है पर हर चीज की एक सीमा होती है.