ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे ब्रेक्जिट यानी ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से अलग होने के मसले पर बड़े संकट में घिरती नजर आ रही हैं. रविवार को टेरेसा मे ने अपने सांसदों को चेतावनी दी है कि अगर उन्होंने मंगलवार को होने वाले संसदीय मतदान में उनके द्वारा किये गये ब्रेक्जिट समझौते को खारिज कर दिया तो ब्रिटेन संकट में चला जाएगा और फिर चुनाव कराने पड़ सकते हैं.

पीटीआई के मुताबिक ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने ‘मेल ऑन संडे’ को दिए एक साक्षात्कार में कहा, ‘सांसदों द्वारा मेरे समझौते को खारिज करने का सीधा मतलब देश को गंभीर अनिश्चितताओं में डालना होगा. इसके बाद दो ही विकल्प होंगे ‘नो ब्रेक्जिट’ या समझौते के बिना यूरोपीय संघ को छोड़ना.’

टेरेसा मे अपनी सरकार और यूरोपीय संघ के बीच पिछले महीने हुए समझौते पर ब्रिटेन के सांसदों को रजामंद करने में जुटी हुई हैं. इस समझौते पर संसद में मगलवार को मतदान होना है. अगर यह समझौता खारिज होता है तो संकट की स्थिति पैदा हो जाएगी. ब्रिटिश मीडिया के मुताबिक मंगलवार को होने वाले मतदान में ऐसी संभावना अधिक है कि सांसद मे द्वारा किए गए ब्रेक्जिट समझौते को खारिज कर दें.

इस मतदान में अगर सांसद प्रधानमंत्री टेरेसा मे के समझौते को ख़ारिज कर देते हैं तो इसके बाद मे की कुर्सी भी जा सकती है. ब्रिटेन की विपक्षी लेबर पार्टी ने साफ़ कर दिया है कि अगर संसद मंगलवार को ब्रेक्जिट समझौता खारिज करती है तो वह प्रधानमंत्री के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लेकर आएगी.

अगर संसद में टेरेसा मे की सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित हो जाता है तो उनके पास सांसदों द्वारा फिर से मतदान कराकर नतीजे पलटने के लिए केवल दो सप्ताह का वक्त होगा. अगर सरकार फिर नाकाम रहती है तो ब्रिटेन में आम चुनाव होंगे.