लोक सभा चुनाव से पहले हिंदी पट्टी के तीन राज्यों में भाजपा का गढ़ ढहने की खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. इनमें छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने भाजपा का सूपड़ा साफ करते हुए 90 में से 68 सीटों पर जीत दर्ज की. हालांकि, राजस्थान और मध्य प्रदेश में वह बहुमत का आंकड़ा नहीं छू पाई है. इनमें पार्टी को क्रमश: 101 के बजाय 99 और 116 की जगह 114 सीटें ही हासिल हुई हैं. हालांकि, इसके बाद भी कांग्रेस ने सरकार बनाने का दावा किया है. दूसरी ओर, कांग्रेस उत्तर-पूर्व में अपना इकलौता गढ़ मिजोरम भी नहीं बचा पाई. वहां, प्रमुख विपक्षी पार्टी एमएनएफ (मिज़ो नेशनल फ्रंट) ने बहुमत हासिल किया है. हालांकि तेलंगाना में टीआरएस ने अपनी सत्ता बरकरार रखने में कामयाबी हासिल की है.

विराट कोहली के कहने पर अनिल कुंबले को कोच के पद से हटाया गया : डायना एडुल्जी

सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित प्रशासकों की समिति (सीओए) द्वारा भारतीय क्रिकेट टीम के कोच अनिल कुंबले को हटाए जाने को लेकर बड़ा खुलासा किया है. अमर उजाला की खबर के मुताबिक सीओए सदस्य डायना एडुल्जी ने कहा है कि कप्तान विराट कोहली के कहने पर ही अनिल कुंबले को कोच के पद से हटाया गया. उनका आगे कहना था कि उन्होंने इसका विरोध भी किया था. डायना एडुल्जी इस बात का खुलासा भी किया कि किस तरह विराट की पसंद के कोच को रखने के लिए आवेदन की तारीख को आगे बढ़ाई गई थी. उन्होंने कहा, ‘पूरी प्रक्रिया में अनिल कुंबले एक खलनायक की तरह पेश किए गए लेकिन वे एक महान व्यक्ति की तरह चुपचाप निकल गए.’ सीओए अध्यक्ष विनोद राय ने भी इसकी पुष्टि की है कि विराट कोहली के साथ मतभेद की वजह से अनिल कुंबले को कोच के पद से हटाया गया था.

किसी भी स्थिति में बलात्कार पीड़िता की पहचान उजागर न की जाए : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने देश में बलात्कार पीड़िता के साथ अछूत जैसे व्यवहार को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. साथ ही, शीर्ष अदालत ने इनका नाम और पहचान उजागर न करने के भी निर्देश दिए हैं. नवभारत टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक शीर्ष अदालत ने पुलिस से कहा कि वह बलात्कार और यौन उत्पीड़न के ऐसे मामलों में जिनमें आरोपित नाबालिग हों, उसकी भी एफआईआर सार्वजनिक न करें. इसके साथ ही न्यायाधीश एमबी लोकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने मीडिया को भी यौन हिंसा की पीड़िताओं की पहचान किसी भी रूप में सामने न लाने के निर्देश दिए हैं. इस मामले में न्यायमित्र इंदिरा जयसिंह ने सुप्रीम कोर्ट से इसकी मांग की थी. उनका कहना था कि अदालत में विचाराधीन मामलों में मीडिया ‘समानांतर सुनवाई’ कर रहा होता है.

गुगल प्लस के पांच करोड़ उपभोक्ताओं के डेटा लीक

प्रमुख सर्च इंजन गूगल के सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म ‘गूगल प्लस’ का डेटा दोबारा लीक होने की वजह से कंपनी की मुश्किलें बढ़ती दिख रही है. राजस्थान पत्रिका में प्रकाशित खबर के मुताबिक गूगल प्लस के 5.25 करोड़ उपभोक्ताओं के नाम और ई-मेल सहित अन्य जानकारियां प्राइवेसी सेट किए जाने के बाद भी लीक हुई है. इसके बाद गूगल ने इसे प्रस्तावित समयसीमा से चार महीने पहले ही बंद करने का फैसला किया है. हालांकि, कंपनी का कहना है कि यह वायरस सॉफ्टवेयर में अपडेट के बाद आया था. इसकी वजह से छह दिनों तक उपभोक्ताओं की निजी जानकारियां सार्वजनिक होती रहीं. इससे पहले अक्टूबर, 2018 में पांच लाख यूजर्स का डेटा लीक हुआ था.