मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के रूप में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ का नाम सबसे आगे होने की चर्चा के बीच शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने गुरुवार को उन पर जमकर निशाना साधा. अकाली दल ने कांग्रेस नेतृत्व पर सिख विरोधी दंगों के साजिशकर्ताओं को बचाने का आरोप लगाते हुए कहा कि अगर कमलनाथ मुख्यमंत्री नामित होते हैं तो सिख समुदाय इसका माकूल जवाब देगा.

अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने पत्रकारों से कहा, ‘जब भी गांधी परिवार सत्ता में आता है, तो वह 1984 के दंगों के साजिशकर्ताओं को बचाता है. अब राहुल गांधी और गांधी परिवार कमलनाथ को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के पद का तोहफा देने जा रहे हैं.’ सिरसा ने आगे कहा, ‘सिख शांति प्रिय लोग हैं, लेकिन वे गांधी परिवार को माकूल जवाब देंगे. अगर गांधी परिवार, कमलनाथ को मुख्यमंत्री के रूप में नामित करने का फैसला करता है तो इससे जनाकोश फैलेगा.’

अकाली दल ने आरोप लगाया कि 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद राष्ट्रीय राजधानी में सिख विरोधी दंगों के फैलने में कमलनाथ का हाथ था. इससे पहले भी जब कमलनाथ को कांग्रेस का पंजाब और हरियाणा का प्रभारी बनाया गया था तब सिखों के एक वर्ग ने इसका विरोध किया था. इसके बाद कमलनाथ से पंजाब का कार्यभार ले लिया गया पर हरियाणा के लिए महासचिव की जिम्मेदारी उनके पास बनी रहने दी गई.