भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता व मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य विधानसभा के ताजा चुनाव में हुई हार के बाद प्रदेश को छोड़कर केंद्र की राजनीति में जाने से इनकार किया है. टाइम्स नाउ के मुताबिक शिवराज सिंह चौहान ने कहा है, ‘मैं केंद्र की राजनीति में नहीं जाऊंगा. मैं मध्य प्रदेश में ही रहूंगा और यहीं मरूंगा.’

इससे पहले मंगलवार की देर रात आए चुनाव नतीजों के बाद बुधवार को शिवराज सिंह चौहान ने राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को अपना इस्तीफा सौंपा था. इसके बाद एक बयान में केंद्रीय नेतृत्व का बचाव करते हुए चौहान ने विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार के लिए खुद को जिम्मेदार बताया था.

मध्य प्रदेश में बुधवार को जारी किए गए नतीजों के मुताबिक कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है. उसे 114 सीटें मिलीं जो बहुमत से दो कम थीं. हालांकि वह बसपा के दो, सपा के एक और चार निर्दलीय विधायकों के समर्थन से यहां सरकार बनाने जा रही है. वहीं भाजपा को 109 सीटों पर जीत मिली है.