कांग्रेस पार्टी ने भाजपा की उस मांग को नकार दिया है जिसमें उसने राहुल गांधी को माफी मांगने की बात कही थी. भाजपा ने आज सुप्रीम कोर्ट के रफाल सौदे की जांच की मांग से जुड़ी सभी याचिकाएं खारिज किए जाने के बाद यह मांग की थी. इसी पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस ने राहुल गांधी गांधी के माफी मांगने की संभावना को नकार दिया और कहा कि अगर कांग्रेस अध्यक्ष ने कुछ गलत कहा है तो भाजपा उनके खिलाफ विशेषाधिकार हनन नोटिस लेकर आए.

पीटीआई-भाषा की खबर के मुताबिक भाजपा की इस मांग के बारे में पूछे जाने पर लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, ‘माफी क्यों मांगें? हमने तो सदन में कहा है कि यदि उन्होंने (राहुल गांधी) ‘झूठ’ बोला है तो आप (भाजपा) विशेषाधिकार हनन नोटिस लाइए.’ खड़गे ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने रफाल विमान सौदे में मूल्य निर्धारण के बारे में कुछ नहीं बोला है. कांग्रेस नेता ने कहा कि यह तो एक जनहित याचिका थी जिसका कांग्रेस से कोई संबंध नहीं है.

खड़गे का कहना है कि सरकार को संसद को यह बताना चाहिए कि वह इस मुद्दे पर संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) क्यों नहीं बनाना चाहती है. उन्होंने कहा, ‘जेपीसी तो दोनों सदनों की होती है. पीआईएल के फैसले से यह नहीं कहा जा सकता कि कोई आरोपों से बरी हो गया. उच्चतम न्यायालय तो केवल उन्हीं मुद्दों की जांच करेगा जो याचिका में उठाए गए हैं. वहीं, जेपीसी मुद्दे की व्यापक जांच करेगी. सारी फाइलों पर गौर किया जाएगा.’

मल्लिकार्जुन खड़गे से पहले पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सवाल किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जेपीसी की जांच से क्यों डर रहे हैं. उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘हमने पहले ही कहा था कि सुप्रीम कोर्ट रफाल के भ्रष्टाचार की जांच नहीं कर सकता, क्योंकि नियमों के तहत उसका दायरा सीमित है. इसलिए हमने न्यायालय का रुख नहीं किया था.’ सुरजेवाला ने कहा कि इस मामले में भ्रष्टाचार की कई परते हैं जिनकी छानबीन सिर्फ जेपीसी जांच से हो सकती है. उन्होंने कहा, ‘हम प्रधानमंत्री को चुनौती देते हैं कि आप जेपीसी से जांच कराएं. आप जेपीसी की जांच से क्यों डर रहे हैं?’