अशोक गहलोत राजस्थान के अगले मुख्यमंत्री होंगे. इसके साथ ही सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री के तौर पर उनके सहयोगी की भूमिका सौंपी गई है. एनडीटीवी के मुताबिक उप मुख्यमंत्री चुने जाने के बाद सचिन पायलट ने कहा है, ‘मैं पार्टी के सभी नेताओं का आभार व्य​क्त करता हूं कि उन्होंने अशोक गहलोत को प्रदेश का मुख्यमंत्री चुना. मेरा और अशोक गहलोत जी का जादू पूरी तरह चल गया है और अब राजस्थान में कांग्रेस अपनी सरकार बनाने जा रही है.’

खबरों के मुताबिक साफ-सुथरी छवि और गांधी परिवार से पुराने नाते के अलावा सोशल इंजीनियरिंग पर उनकी मजबूत पकड़ को देखते हुए अशोक गहलोत को तीसरी बार राजस्थान की कमान सौंपी गई है. इससे पहले 1998 से 2003 और इसके बाद 2008 से 2013 के दौरान वे राज्य के मुख्यमंत्री रहे थे. इसके साथ ही अशोक गहलोत, इंदिरा और राजीव गांधी के अलावा नरसिंह राव के नेतृत्व वाली केंद्र सरकारों में केंद्रीय मंत्री के तौर पर भी काम कर चुके हैं.

उधर, आधिकारिक तौर पर अशोक गहलोत के नाम की घोषणा किए जाने से कुछ देर पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मुख्यमंत्री के नाम पर सस्पेंस को बढ़ाते हुए अशोक गहलोत और सचिन पायलट के कंधों पर हाथ रखकर एक फोटो ट्वीट की थी. इस फोटो में पार्टी के तीनों नेता मुस्कुराते हुए दिखाई दिए थे. इसके साथ ही इस फोटो में उन्होंने ‘राजस्थान के सभी रंग एक साथ’ का संदेश दिया था. हालांकि इस फोटो को देखकर अंदाजा लगाना कठिन हो रहा था कि प्रदेश का मुख्यमंत्री आखिर किसे चुना गया है.

हालांकि राजस्थान में भी मध्य प्रदेश की ही तरह मुख्यमंत्री के नाम पर अंतिम फैसला करने के लिए पार्टी नेताओं को मैराथन बैठक करनी पड़ी. साथ ही अशोक गहलोत को राजस्थान के मुख्यमंत्री हो इस पर सचिन पायलट को राजी करने के लिए कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं सहित कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी को भी आगे आना पड़ा था. इससे पहले राज्य के नवनिर्वाचित विधायकों से मिली प्रतिक्रियाओं के बाद पर्यवेक्षकों ने मुख्यमंत्री चुनने का फैसला हाईकमान पर छोड़ दिया था.