रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि नोटबंदी और जीएसटी ने अर्थव्यवस्था पर दोहरी चोट की. उनके मुताबिक जब वैश्विक अर्थव्यवस्था विकास के रास्ते पर थी तो नोटबंदी ने भारत के आर्थिक विकास की रफ्तार धीमी कर दी. रघुराम राजन के मुताबिक कई अध्ययनों से भी इसकी पुष्टि होती है.

रघुराम राजन ने कहा कि जीएसटी ने भी अर्थव्यवस्था की गति पर असर डाला है. उन्होंने माना कि नोटबंदी के फैसले से पहले उनकी राय पूछी गई थी, लेकिन वे इससे सहमत नहीं थे. रघुराम राजन का ये भी कहना था कि उन्होंने ऐसे लोगों को एक सूची प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजी थी जिन पर बैंकों का सबसे ज्यादा बकाया है, लेकिन उन्हें पता नहीं कि उसका क्या हुआ. रिजर्व बैंक के पूर्व मुखिया ने चेतावनी दी कि अगर इन लोगों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो दूसरे भी इनके रास्ते पर चल सकते हैं.