पाकिस्तान ने भारतीय नागरिक हामिद निहाल अंसारी को जेल से रिहा कर दिया है. अब उन्हें वापस भारत भेजा जाएगा. पीटीआई ने पाकिस्तान के सरकारी मीडिया के हवाले से हामिद अंसारी की रिहाई की खबर दी है. हामिद अंसारी को छह साल पहले फर्जी पाकिस्तानी पहचान-पत्र रखने के आरोप में वहां की खुफिया एजेंसियों ने हिरासत में लिया था. बाद में उन्हें तीन साल कैद की सजा सुनाई गई थी.

खबरों के मुताबिक ऑनलाइन चैटिंग के जरिए हामिद अंसारी की एक पाकिस्तानी लड़की से दोस्ती हो गई थी. बताया जाता है कि उसी लड़की से मिलने के लिए वे अफगानिस्तान के रास्ते पाकिस्तान पहुंच गए थे. वहां पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियों एवं कोहाट की स्थानीय पुलिस ने हामिद को हिरासत में ले लिया था. बाद में हामिद की मां फौजिया अंसारी द्वारा दाखिल बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका के जवाब में उच्च न्यायालय को सूचित किया गया कि अंसारी पाकिस्तानी सेना की हिरासत में हैं और एक सैन्य अदालत में उन पर मुकदमा चलाया जा रहा है.

सैन्य अदालत ने 15 दिसंबर, 2015 को अंसारी को सजा सुनाई थी. तब से 33 वर्षीय मुंबई निवासी अंसारी पेशावर केंद्रीय कारागार में बंद थे. उनकी तीन साल की सजा 15 दिसंबर, 2018 को पूरी हो गई थी, लेकिन कानूनी दस्तावेज तैयार नहीं होने की वजह से वे भारत के लिए रवाना नहीं हो पा रहे थे. बीते गुरुवार को पेशावर उच्च न्यायालय ने सरकार को एक महीने के भीतर उनको स्वदेश भेजने की प्रक्रिया पूरी करने के लिए कहा था.