राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा गुरुवार को संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) का हिस्सा बन गए. खबरों के मुताबिक दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय में यूपीए का हिस्सा बनने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘बिहार में पहले से ही हमारा महागठबंधन है और यह खुशी की बात है कि उपेंद्र कुशवाहा भी आज इस महागठबंधन का हिस्सा बन गए हैं.’ सूत्रों के मुताबिक अगले साल होने वाले आम चुनाव के दौरान ‘महागठबंधन’ की तरफ से आरएलएसपी को चार से पांच सीटें दी जा सकती हैं.

इस मौके पर लोकतांत्रिक जनता दल पार्टी के नेता शरद यादव, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के जीतन राम मांझी और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता तेजस्वी यादव भी मौजूद थे. इस दौरान तेजस्वी यादव ने इस महागठबंधन को संविधान बचाने की कवायद बताते हुए कहा कि उनकी लड़ाई ऐसे लोगों के खिलाफ है जिन्होंने जनता को सिवाय धोखे के कुछ नहीं दिया.

इस बीच कांग्रेस की बिहार इकाई के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कुशवाहा के यूपीए में आने को बिहार और देश के हित में बताया. उधर, उपेंद्र कुशवाहा ने कहा, ‘कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की उदारता की वजह से आरएलएसपी यूपीए का हिस्सा बनी है. साथ ही बिहार की जनता के आशीर्वाद ने भी इसमें अहम भू​मिका निभाई है.’ कुशवाहा के मुताबिक उन्होंने अपने अपमान की वजह से एनडीए का साथ छोड़ने का फैसला किया था.

इससे पहले आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बिहार में सीटों के बंटवारे के मुद्दे पर नाराज उपेंद्र कुशवाहा ने इसी महीने की दस तारीख को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) से अलग होने की घोषणा की थी.