आखिरकार कांग्रेस ने प्रधानमंत्री मोदी को नींद से जगा ही दिया.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के मुद्दे को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए कही है. इसके साथ ही उन्होंने एक ट्वीट में लिखा कि जीएसटी संबंधी कांग्रेस के विचार को नरेंद्र मोदी ने ‘ग्रैंड स्टुपिड थॉट’ यानी बेहद बकवास विचार बताया था. लेकिन आज प्रधानमंत्री खुद उसी विचार को लागू कराने के बारे में सोच रहे हैं. इससे पहले इसी मंगलवार को प्रधानमंत्री ने 99 फीसदी वस्तुओं को जीएसटी के 18 फीसदी के स्लैब में लाए जाने के संकेत दिए थे.

‘राजनीतिक बहसों में ईवीएम को ‘फुटबॉल’ बना दिया जाता है.’  

— सुनील अरोड़ा, मुख्य चुनाव आयुक्त

सुनील अरोड़ा का यह बयान राजनीतिक दलों की तरफ से इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) की विश्वसनीयता को लेकर उठाए जाने वाले सवालों पर आया है. उन्होंने कहा कि दलों को अपनी बात कहने का पूरा हक है पर उन्हें तब बेहद अफसोस होता है जब कोई दल विशेष अपने पक्ष में चुनावी नतीजे न आने पर उसका ठीकरा ईवीएम पर फोड़ता है. उन्होंने तर्क दिया कि ईवीएम के साथ अगर छेड़छाड़ हो सकती तो 2014 के आम चुनाव, दिल्ली विधानसभा और हाल के पांच राज्यों के चुनाव के नतीजों में फर्क देखने को नहीं मिलता. सुनील अरोड़ा के मुताबिक ईवीएम गलत रखरखाव का शिकार तो हो सकती है पर इसके साथ छेड़छाड़ मुमकिन नहीं है.


‘सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में सरकार की तरफ से जल्दी ही 83 हजार करोड़ रुपये डाले जाएंगे.’  

— अरुण जेटली, केंद्रीय वित्त मंत्री

अरुण जेटली ने यह बात गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार की तरफ से यह पूंजी इसी वित्त वर्ष में डाली जाएगी. इससे सरकारी बैंकों के कर्ज देने की क्षमता बढ़ेगी साथ ही आरबीआई की तत्काल सुधारात्मक कार्रवाई (पीसीए) रूपरेखा से भी उन्हें बाहर निकलने में मदद मिलेगी. अरुण जेटली ने आगे कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के फंसे कर्ज (एनपीए) की पहचान का काम पूरा हो चुका है और इसमें कमी आनी भी शुरू हो चुकी है.


‘हनुमान जी सभी धर्मों के प्यारे थे, हमारा मानना है कि वे मुसलमान थे.’  

— बुक्कल नवाब, भारतीय जनता पार्टी के नेता

बुक्कल नवाब का यह बयान हनुमान जी का मजहब बताते हुए आया है. उन्होंने कहा, ‘हनुमान जी मुसलमान थे. इसीलिए मुसलमानों में जो रहमान, फरमान, जीशान और कुर्बान जैसे नाम रखे जाते हैं वे सभी लगभग हनुमान जी के नामों पर हैं. उन्होंने आगे कहा, ‘मुसलमानों में करीब सौ नाम हनुमान जी से मिलते-जुलते हैं.’ बुक्कल नवाब के मुताबिक मुसलमान तो हनुमान के नाम पर नाम रख लेते हैं मगर हिंदू भाई रमजान, सुल्तान जैसे नाम रखने से परहेज करते हैं.


‘अपने अपमान की वजह से मैंने एनडीए का साथ छोड़ने का फैसला किया था.’  

— उपेंद्र कुशवाहा, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष

उपेंद्र कुशवाहा ने यह बात गुरुवार को संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) में शामिल होने के मौके पर कही. उन्होंने यह भी कहा, ‘कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की उदारता की वजह से मैं यूपीए का हिस्सा बना हूं और ऐसा संभव होने में बिहार की जनता के आशीर्वाद की अहम भूमिका रही है.’ इससे पहले आगामी आम चुनाव के मद्देनजर बिहार में सीटों के बंटवारे पर नाराज उपेंद्र कुशवाहा ने इसी महीने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का साथ छोड़ दिया था.