‘मैंने एक चिंतित भारतीय के तौर पर आवाज उठाई थी और मैंने कुछ गलत नहीं कहा है.’  

— नसीरुद्दीन शाह, फिल्म अभिनेता

नसीरुद्दीन शाह ने यह बात अपने ही एक बयान पर कही है. उन्होंने यह भी कहा, ‘मैंने पिछला बयान मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए दिया था. मैंने ऐसा कुछ भी गलत नहीं ​कहा कि मुझे राष्ट्रद्रोही के तौर पर देखा जाए.’ इससे पहले मॉब लिंचिंग (भीड़ द्वारा हिंसा) और बुलंदशहर हिंसा पर अपनी राय जाहिर करते हुए नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि गायों को इंसानों से ज्यादा अहमियत दी जा रही थी. इसके साथ ही उनका यह भी कहना था कि मौजूदा दौर में कुछ लोगों को अपने हाथ में कानून लेने की छूट मिल गई है.

‘प्रधानमंत्री नरेंद मोदी एक असुरक्षित तानाशाह की तरह काम कर रहे हैं.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात केंद्रीय जांच एजेंसियों को निजी कंप्यूटरों की निगरानी का अधिकार दिए जाने को लेकर एक ट्वीट के जरिए कही है. इसी ट्वीट में राहुल गांधी ने आगे लिखा है, ‘मोदी जी, भारत को पुलिस राज में तब्दील करने से आपकी समस्याओं का समाधान होने वाला नहीं है. इस कानून के जरिये एक अरब से ज्यादा भारतीयों के सामने सिर्फ यही साबित होगा कि आप एक असुरक्षित तानाशाह हैं.’


‘रफाल सौदे को लेकर चल रहे विवाद पर सेना को कोई टिप्पणी करने से बचना चाहिए.’  

— पी चिदंबरम, पूर्व वित्त मंत्री

पी चिदंबरम ने यह बात एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान थल सेना और वायु सेना से ‘अपील’ करते हुए कही है. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा कि वायुसेना प्रमुख बीएस धनोवा यदि इस मुद्दे पर कुछ कहना ही चाहते हैं तो उन्हें सरकार से पूछना चाहिए कि वह सिर्फ 36 रफाल विमान ही क्यों खरीद रही है? जबकि देश को 126 लड़ाकू विमानों की जरूरत है. इससे पहले इसी हफ्ते एयर चीफ मार्शल बीएस धनोवा ने रफाल विमानों को देश की जरूरत बताया था.


‘यह दुर्भाग्यपूर्ण था कि विराट कोहली और अनिल कुंबले एक साथ मिलकर काम नहीं कर पाए.’  

— वीवीएस लक्ष्मण, भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज

वीवीएस लक्ष्मण ने यह बात भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री की कोचिंग पर उठ रहे सवालों को लेकर कही है. उनके मुताबिक क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने बहुत सोच-समझकर अनिल कुंबले को भारतीय क्रिकेट टीम के कोच का पद सौंपा था, लेकिन चैंपियंस ट्रॉफी के दौरान कुंबले और टीम के कप्तान विराट कोहली के बीच का विवाद सामने आ गया. वीवीएस लक्ष्मण ने आगे कहा कि सीएसी चाहती थी कि कुंबले पद पर बने रहें लेकिन उन्होंने इस्तीफा देना ही बेहतर समझा. कुंबले के इस्तीफा देने के बाद शास्त्री को टीम के मुख्य कोच की जिम्मेदारी सौंपी गई थी.