अमेरिका के सीरिया से सेना वापस बुलाने के फैसले के बाद तुर्की ने कहा है कि वह उत्तरी सीरिया से कुर्द लड़ाकों को हर हाल में खदेड़ कर रहेगा. मंगलवार को इस्तांबुल में मीडिया से बातचीत के दौरान तुर्की के मंत्री मौलूद जावेश उगलू ने यह बात कही.

तुर्की की प्राइवेट न्यूज़ एजेंसी डीएचए के मुताबिक मौलूद जावेश उगलू ने कहा, ‘सीरिया से अमेरिकी बलों की वापसी के लिए तुर्की अमेरिका का सहयोग करेगा. लेकिन उत्तरी सीरिया से अमेरिका के सहयोगी कुर्द लड़ाकों को खदेड़ने का हम दृढ़ निश्चय कर चुके हैं.’ तुर्की के विदेश मंत्री का यह भी कहना था, ‘अगर तुर्की कहता है कि वह सीरिया में घुस कर कार्रवाई करेगा तो निश्चित ही करेगा.’ हालांकि, मंत्री के मुताबिक उत्तरी सीरियाई शहर मनबिज से अमेरिकी सुरक्षा बलों के वापस जाने तक कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी.

तुर्की कुर्दों को मनबिज से हटाना क्यों चाहता है?

मनबिज सहित उत्तरी सीरिया के कई शहरों में कुर्द लड़ाके लंबे समय से आईएस को खत्म करने में अमेरिका का सहयोग कर रहे हैं. लेकिन, तुर्की अपनी सीमा से सटे इस सीरियाई शहर में कुर्द लड़ाकों की उपस्थिति नहीं चाहता. बीते जून में उसने अमेरिका से एक समझौता किया था जिसमें कहा गया था कि कुर्द बहुत जल्द मनबिज से चले जाएंगे. लेकिन अभी तक ऐसा न होने की वजह से तुर्की नाराज है.

तुर्की किसी भी तरह अब कुर्दों को मनबिज से हटाना चाहता है. यही वजह है कि वह अमेरिकी सेना के सीरिया से जाने के बाद कुर्द लड़ाकों पर धावा बोलने की तैयारी में है. तुर्की कुर्दों को आतंकवादी मानता है, उसका कहना है कि कुर्द तुर्की में सक्रिय अलगाववादी संगठनों के सबसे बड़े मददगार हैं.