केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री विजय गोयल ने कहा है कि मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण (तीन तलाक) विधेयक गुरुवार को लोकसभा में पेश किया जाएगा. स्क्रोल डॉट इन के मुताबिक यह विधेयक बीते हफ्ते सदन के पटल पर रखा गया था. तब 21 दिसंबर को लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा था कि उनकी पार्टी इस विधेयक पर चर्चा के लिए तैयार है. उधर, इस विधयेक को लोकसभा में पेश किए जाने के दौरान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सभी सांसद सदन में मौजूद रहें इसके लिए पार्टी ने व्हिप भी जारी किया है.

केंद्र सरकार की तरफ से पहले भी तीन तलाक विधेयक लाया जा चुका है. हालांकि तब लोकसभा में इसे मंजूरी मिलने के बाद कांग्रेस सहित कई अन्य विपक्षी दलों के इसके कुछ प्रस्तावों पर असहमति जताई थी जिससे यह राज्यसभा में अटक गया था. इस दौरान सितंबर में सरकार ने कुछ संशोधनों के साथ तीन तलाक को लेकर अध्यादेश पारित किया था जिसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में कई याचिकाएं डाली गई थीं. लेकिन दिसंबर में संसद के शीतकालीन सत्र को देखते हुए शीर्ष अदालत ने उन याचिकाओं पर सुनवाई से इनकार कर दिया था.

उधर, गुरुवार को पेश किए जाने वाले इस विधेयक को लेकर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू से इसका विरोध करने की अपील की है. खबरों के मुताबिक एआईएमपीएलबी के कुछ सदस्यों ने ​अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके), तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी), समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के नेताओं से मिलकर इस विधेयक का साथ न देने का आग्रह किया है.