तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के अध्यक्ष और तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने बुधवार को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है. तेलंगाना की सत्ता में दोबारा वापसी करने के बाद नरेंद्र मोदी से यह उनकी पहली मुलाकात थी. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक इस मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं के बीच राज्य के पिछड़े हिस्सों के विकास के लिए जल्द से जल्द केंद्र से पैसा दिए जाने, करीमनगर में एक आईआईटी और राज्य के नए जिलों में केंद्रीय विद्यालय खोलने के साथ प्रदेश के लिए एक अलग हाईकोर्ट स्थापित किए जाने को लेकर बातचीत हुई है.

उधर, नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने से पहले राव ने आगामी आम चुनाव के मद्देनजर तीसरा मोर्चा गठित करने को लेकर हाल में ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ भी मुलाकात की थी. बताया जा रहा है कि जल्दी ही वे बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती से भी मुलाकात करेंगे.

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक 25 या 26 दिसंबर को दिल्ली में ही राव की मुलाकात समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ भी होनी थी. लेकिन इस दौरान अखिलेश यादव के दिल्ली से बाहर होने से दोनों नेताओं की आपसी मुलाकात नहीं हो पाई. इस पर अखिलेश यादव ने कहा है कि छह जनवरी के बाद वे खुद तेलंगाना जाकर चंद्रशेखर राव से मुलाकात करेंगे.

पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद चंद्रशेखर राव अगले लोकसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) व कांग्रेस से इतर तीसरा मोर्चा गठित करने की कोशिशों में जुटे हैं. विपक्षी दलों के नेताओं के साथ उनकी ये मुलाकातें इसी राजनीतिक कवायद के मद्देनजर हो रही हैं.