शिवसेना के संस्थापक दिवंगत बाल ठाकरे के जीवन पर बनी फिल्म ‘ठाकरे’ के कुछ दृश्यों पर सेंसर बोर्ड की ओर से आपत्ति जताने की खबरों के बीच पार्टी के वरिष्ठ नेता और फिल्म के निर्माता संजय राउत ने कहा है कि कोई इस फिल्म को प्रतिबंधित नहीं कर सकता है. संजय राउत ने बुधवार को फिल्म का ट्रेलर लॉन्च करने के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान यह बयान दिया.

पीटीआई के मुताबिक, केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) ने फिल्म में बाबरी मस्जिद और दक्षिण भारतीय समुदाय के संबंध में दिखाए गए कुछ दृश्यों पर आपत्ति जताई है. इसे लेकर सवाल किए जाने पर राउत ने कहा, ‘क्या सही है और क्या सही नहीं है, यह कौन तय करेगा? यह बायोपिक है. यह सच्ची कहानी है. बाला साहेब का जीवन खुली किताब है. सेंसर बोर्ड समझेगा. कुछ चीजों को समझने में समय लगता है.’

वहीं, प्रतिंबध को लेकर किए गए सवाल पर पार्टी के राज्यसभा सदस्य ने कहा, ‘प्रतिबंध का कोई सवाल नहीं है. यह ठाकरे है और ठाकरे को कोई प्रतिबंधित नहीं कर सकता है.’ बता दें कि संजय राउत ने ही फिल्म की कहानी लिखी है. इस बायोपिक में अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी, बाल ठाकरे की भूमिका में नजर आएंगे. अभिजीत पानसे द्वारा निर्देशित यह फिल्म 23 जनवरी को यानी बाल ठाकरे की जयंती के दिन रिलीज होगी.