पश्चिम बंगाल में द्वितीय विश्व युद्ध के समय का एक बम बरामद होने की खबर है. खबर के मुताबिक शुक्रवार को राज्य की राजधानी कोलकाता के एक बंदरगाह (नेताजी सुभाष डॉक) के पास मिट्टी हटाने का काम चल रहा था, उसी दौरान 1000 पाउंड का बम मिला. बताया जा रहा है कि यह द्वितीय विश्व युद्ध के समय लड़ाकू विमान से गिराया जाने वाला बम है. बता दें कि द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान अमेरिकी नौसेना ने बड़े पैमाने पर हुगली नदी के पूर्वी तट पर स्थित नेताजी सुभाष डॉक का अपने अभियानों के लिए इस्तेमाल किया था.

पीटीआई के मुताबिक कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट के अध्यक्ष विनीत कुमार ने बताया कि बम मिलने के बाद इलाके की घेराबंदी कर दी गई है और पुलिस, नौसेना तथा सेना को सूचित कर दिया गया है. उन्होंने समाचार एजेंसी से कहा, ‘नेताजी सुभाष डॉक बर्थ द्वितीय में मिट्टी हटाने के अभियान के दौरान विमान से गिराया गया 4.5 मीटर लंबा बम कल दोपहर करीब दो बजे मिला. शुरुआत में हमने सोचा कि यह टॉरपीडो है, लेकिन नौसेना ने इसके बम होने की पुष्टि की है.’

विनीत के मुताबिक विस्फोटक को ऑर्डनेंस फैक्टरी के अधिकारियों की मदद से निष्क्रिय किए जाने की संभावना है. उधर, नौसेना प्रभारी अधिकारी, पश्चिम बंगाल कमांडर सुप्रभो के डे ने बताया कि इस बम से कोई खतरा नहीं है, क्योंकि इसमें कई सुरक्षा लॉक लगे हैं. डे ने कहा कि नौसेना इस बम को लेकर ज्यादा कुछ नहीं कर सकती. उन्होंने कहा, ‘मुझे उम्मीद है कि कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट ऑर्डनेंस फैक्टरी से मदद मांगेगा जिसे गोला बारूद बनाने की विशेषज्ञता हासिल है. अगर जरूरत पड़ी तो हम मदद के लिए विजाग नौसेना अड्डे से संपर्क कर सकते हैं.’