लोक सभा चुनाव को अब चार महीने ही बचे हैं. ऐसे में उससे जुड़ी तरह-तरह की ख़बरें लगातार सामने आ रही हैं. इसमें ताज़ा ये हे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बार ओडिशा के पुरी से भी लोक सभा का चुनाव लड़ सकते हैं. द न्यू इंडियन एक्सप्रेस ने भारतीय जनता पार्टी के सूत्रों के हवाले से यह ख़बर दी है.

अख़बार के मुताबिक इसी साल ओडिशा के विधानसभा चुनाव हैं. वहां भाजपा को लग रहा है कि अगर थाेड़ा और जोर लगाया जाए तो पार्टी वहां बेहतर प्रदर्शन कर सकती है. सत्ता में भी आ सकती है. पिछले साल राज्य के पंचायत चुनाव में भाजपा को मिली सफलता ने उसे यह उम्मीद बंधाई है. उस भाजपा राज्य में सत्ताधारी बीजेडी (बीजू जनता दल) के बाद दूसरी बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी. मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को उसने तीसरे नंबर पर धकेल दिया था.

सूत्र बताते हैं कि इसी वज़ह से भाजपा राज्य विधानसभा का चुनाव पूरी ताक़त से लड़ना चाहती है. उसने राज्य की 120 सीटें जीतने का लक्ष्य भी रखा है. इस लक्ष्य को हासिल करने में पार्टी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता की मदद लेने की मंशा रखती है. बताया जाता है कि इसी वज़ह से राज्य की भाजपा इकाई ने प्रधानमंत्री से औपचारिक आग्रह किया है कि वे इस बार लोक सभा चुनाव पुरी से भी लड़ें. राज्य इकाई पार्टी संसदीय दल को भी यह प्रस्ताव भेजने वाली है.

ओडिशा के भाजपा अध्यक्ष बसंत पांडा और केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान दोनों ही इस संभावना से पूरी तरह इंकार नहीं करते. हालांकि वे यह भी जोड़ते हैं कि इस संबंध में कोई भी फ़ैसला पार्टी संसदीय बोर्ड ही करेगा. यहां याद दिलाते चलें कि नरेंद्र माेदी ने 2014 का लोक सभा चुनाव उत्तर प्रदेश के वाराणसी और गुजरात के वडोदरा से लड़ा था. दाेनों सीटों पर भारी अंतर से जीत हासिल करने के बाद उन्होंने वडोदरा सीट छोड़ दी थी.