आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा है कि वे अगले लोक सभा चुनाव के परिणामों को लेकर निश्चित नहीं हैं. इसके साथ ही उन्होंने राम मंदिर निर्माण को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान से भी अलग राय जताई है.

नागपुर के सेवादान स्कूल में हुए एक कार्यक्रम से इतर मोहन भागवत ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘प्रधानमंत्री चाहे जो भी कहें, मेरी इस मुद्दे पर राय बिल्कुल स्पष्ट है. हमारी भगवान राम में आस्था है और अयोध्या में राम मंदिर ही बनना चाहिए ऐसा मजबूत विश्वास है.’ उन्होंने इस मसले पर आरएसएस के सरकार्यवाह सुरेश भैया जी जोशी के बयान का समर्थन किया. जोशी ने भी कहा था, ‘संघ अपनी राय पर अडिग है कि अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए कानून पारित किया जाना चाहिए. देश में हर कोई चाहता है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए.’

ग़ौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल में ही एक साक्षात्कार के दौरान कहा था कि राम मंदिर के मामले में न्यायिक प्रक्रिया खत्म होने के बाद ही सरकार कुछ कर सकती है. वे राम मंदिर निर्माण के लिए केंद्र सरकार द्वारा अध्यादेश लाए जाने की संभावनाओं से जुड़े प्रश्न का ज़वाब दे रहे थे. प्रधानमंत्री की इस राय के बाद से ही आरएसएस और उससे जुड़ संगठनों की तीखी प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं. इससे पहले विश्व हिंदू परिषद की ओर से भी कहा गया था कि राम मंदिर निर्माण के लिए अनंत काल तक प्रतीक्षा नहीं की जा सकती.