प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘जय अनुसंधान’ का नया नारा दिया है. उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के प्रसिद्ध नारे ‘जय जवान जय किसान’ और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नारे ‘जय विज्ञान’ में आज ‘जय अनुसंधान’ जोड़ दिया.

नरेंद्र मोदी जालंधर में आयोजित 106वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस में शिरकत कर रहे थे. इस दौरान ‘भविष्य का भारत : विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी’ विषय पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय वैज्ञानिकों का जीवन और कार्य प्रौद्योगिकी विकास तथा राष्ट्र निर्माण के साथ गहरी मौलिक अंतदृर्ष्टि के एकीकरण का शानदार उदाहरण है. प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आज का नया नारा है- जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान, जय अनुसंधान. मैं इसमें ‘जय अनुसंधान’ जोड़ना चाहूंगा.’

पीटीआई के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह विज्ञान ही है जिसके माध्यम से भारत अपने वर्तमान को बदल रहा है और अपने भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए कार्य कर रहा है. उन्होंने कहा, ‘भारतीय विज्ञान के लिए 2018 एक अच्छा वर्ष रहा. इस साल हमारी उपलब्धियों में उड्डयन श्रेणी के जैव ईंधन का उत्पादन, दृष्टिबाधितों के पढ़ने में मदद करने वाली मशीन -दिव्य नयन, सर्वाइकल कैंसर, टीबी, डेंगू के निदान के लिए किफायती उपकरणों का निर्माण और भूस्खलन के संबंध में सही समय पर चेतावनी प्रणाली जैसी चीजें शामिल हैं.’