पाकिस्तान की संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) ने स्वीकार किया है कि उसके कुछ अधिकारी राष्ट्रीय विमानन कंपनी पीआईए के कर्मचारियों के साथ मिलकर मानव तस्करी कर रहे थे.

पीटीआई के मुताबिक पाकिस्तानी समाचार पत्र ‘द डॉन’ ने इसकी जानकारी दी है. डॉन के मुताबिक बुधवार को एफआईए ने गृह मंत्रालय को एक रिपोर्ट दी है जिसके मुताबिक 2014 में ब्रिटिश उच्चायोग ने मानव तस्करी को लेकर एक शिकायत की थी. इस शिकायत के अनुसार लंदन के हीथ्रो हवाई अड्डे पर पकड़े गए 20 अफगानी नागरिकों को इस्लामाबाद के बेनजीर भुट्टो अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (बीबीआईएपी) से तस्करी करके लाया गया था.

समाचार पत्र ने पाकिस्तानी गृह मंत्रालय के एक सूत्र के हवाले से बताया है कि एफआईए की इस रिपोर्ट में ब्रिटिश उच्चायोग की शिकायत के बाद भी एफआईए द्वारा कोई कार्रवाई न किए जाने की बात कही गई है. रिपोर्ट में एफआईए के तत्कालीन निदेशक इनाम गनी को मामले की जांच रद्द करने के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है.

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘एफआईए इस्लामाबाद जोन के निदेशक होने के दौरान इनाम गनी ने बीबीआईएपी के जरिए मानव तस्करी कराने के लिए विमानों की जांच जैसी कानूनी बाधाओं को हटा दिया था. उनकी मिलीभगत के बिना पीआईए और एफआईए के कर्मचारियों को फर्जी पाकिस्तानी पासपोर्ट पर अफगानिस्तान के नागरिकों की तस्करी करना संभव नहीं था.’

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने डॉन को यह भी बताया है कि इस मामले में एफआईए के 30 अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है.