सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में सुनवाई की तारीख का ऐलान कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट मामले की सुनवाई 10 जनवरी से करेगा. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल की पीठ ने शुक्रवार को बताया कि अगली सुनवाई नई बेंच करेगी.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि 10 जनवरी से पहले तीन जजों की नई बेंच बन जाएगी. वही बेंच यह तय करेगी कि मामले की सुनवाई कब शुरू होगी. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक आज इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई महज एक मिनट में पूरी हो गई. अदालत ने एडवोकेट हरिनाथ सिंह द्वारा नवंबर 2018 में दायर उस याचिका को खारिज कर दिया है जिसमें अयोध्या मामले की तत्काल और प्रतिदिन सुनवाई की मांग थी.

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने पिछले साल 12 नवंबर को राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मुकदमे में जल्द सुनवाई की मांग वाली याचिका भी खारिज कर दी थी. राम जन्मभूमि विवाद मामले में शीर्ष अदालत में 14 याचिकाएं लगी हुई हैं. ये याचिकाएं इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले के ख़िलाफ़ अपील के तौर पर आई हैं. उच्च न्यायालय ने 2010 में अयोध्या की 2.77 एकड़ विवादित ज़मीन के तीन हिस्से करने का आदेश दिया था. इसमें से एक हिस्सा- निर्मोही अखाड़ा, दूसरा राम लला और तीसरा सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड को देने का निर्णय सुनाया गया था. ये तीनों ही इस मामले में मुख्य पक्षकार हैं.