दिल्ली हाई कोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह पर बनी फिल्म ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के ट्रेलर पर रोक लगाने संंबंधी एक याचिका खारिज कर दी है. स्क्रोल डॉट इन के मुताबिक यह याचिका दिल्ली की एक फैशन डिजाइनर पूजा महाजन ने लगाई थी जिस पर सोमवार को दिल्ली ​हाई कोर्ट के जज जस्टिस विभू बाखरु ने सुनवाई की थी.

पूजा महाजन के वकील अरुण मैत्री का दावा था कि फिल्म में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी व मनमोहन सिंह का चित्रण किया गया है. लेकिन इसे लेकर फिल्म निर्माता ने इन लोगों से कोई पूर्व अनुमति नहीं ली थी. पूजा महाजन ने इस याचिका में कानून के उल्लंघन का हवाला दिया था. उन्होंने यह भी कहा था कि फिल्म का ट्रेलर प्रधानमंत्री की छवि को नुकसान पहुंचाने वाला प्रतीत होता है. हालांकि इसी याचिका में उनका यह भी कहना था कि इस मुद्दे में उनका कोई ‘निजी हित’ नहीं है.

उधर, प्रतिवादी वकीलों ने इस याचिका में ‘निजी हित’ न होने पर इसे जनहित याचिका की प्र​कृति का बताया था. साथ ही तर्क दिया था कि जनहित याचिका पर एक जज के बजाय खंडपीठ सुनवाई करती थी. इस पर जस्टिस विभू बाखरु ने कहा कि उन्होंने याचिका में उठाए गए विवाद पर गौर नहीं किया है. साथ ही याचिकाकर्ता को इस संबंध में जनहित याचिका दाखिल करनी चाहिए.

अनुपम खेर द्वारा अभिनीत इस फिल्म का आधार मनमोहन सिंह के मीडिया सलाहकार रहे संजय बारू की एक किताब को बताया गया है. यह फिल्म इसी महीने की 11 तारीख को रिलीज होनी है. इस फिल्म का ट्रेलर रिलीज होने के बाद उसे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इसे अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भी शेयर किया था. वहीं कांग्रेस ने इसे भाजपा का प्रोपेगेंडा बताया था.