‘रफाल सौदे में अनिल अंबानी को साझेदार बनाकर सरकार ने एचएएल को कमजोर किया है’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही. इसके साथ ही रफाल सौदे पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा बीते हफ्ते संसद में दिए ढाई घंटे के भाषण को भी उन्होंने ‘सफेद झूठ’ बताया. राहुल गांधी ने सवालिया लहजे में कहा, ‘अगर सरकार ने वाकई हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को करोड़ों रुपये के ठेके दिए हैं तो उसे अपने कर्मचारियों का वेतन देने के लिए कर्ज क्यों लेना पड़ रहा है.’ उन्होंने आगे कहा, ‘अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस सौदे पर मुझसे 15 मिनट की बहस करें तो मैं साबित कर दूंगा कि चौकीदार ने चोरी की है.’

‘आर्थिक तौर पर कमजोर सवर्णों को आरक्षण देने की बात जुमले से ज्यादा कुछ नहीं है.’  

— यशवंत सिन्हा, पूर्व वित्त मंंत्री

यशवंत सिन्हा ने यह बात केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए एक ट्वीट के जरिये कही है. इसी ट्वीट में उन्होंने आगे लिखा है कि यह फैसला तमाम कानूनी पेचीदगियों से भरा हुआ है. यशवंत सिन्हा के मुताबिक इस फैसले को अमल में लाने के लिए सदन में विधेयक पास करना होगा. लेकिन सरकार के पास ऐसा करने का समय नहीं है. इससे पहले सोमवार को ही केंद्र सरकार ने सामान्य श्रेणी में आर्थिक तौर पर पिछड़े वर्ग के लिए नौकरियों व शिक्षा में दस फीसदी के आरक्षण की व्यवस्था को मंजूरी दी थी.


‘कृषि कर्जमाफी की घोषणा से पहले राज्यों को अपनी वित्तीय स्थिति देख लेनी चाहिए.’  

— शक्तिकांत दास, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर

शक्तिकांत दास का यह बयान चुनाव के दौरान राजनीतिक दलों द्वारा किसानों से कर्ज माफ करने संबंधी वादों पर आया है. उन्होंने कहा कि निर्वाचित सरकारों के पास वित्तीय फैसले करने का संवैधानिक अधिकार होता है. लेकिन ऐसे फैसले करने से पहले उन्हें अपनी वित्तीय स्थिति पर गौर कर लेना चाहिए. शक्तिकांत दास के मुताबिक, ‘सामान्य कर्ज माफी से क्रेडिट कल्चर के अलावा कर्ज लेने वालों के भविष्य के व्यवहार पर भी असर पड़ता है.’


‘ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में मिली जीत 1983 के क्रिकेट विश्व कप की जीत के समान है.’  

— रवि शास्त्री, भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच

रवि शास्त्री ने यह बात पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही. उन्होंने आगे कहा, ‘यह जीत 1983 के क्रिकेट विश्व कप या 1985 की क्रिकेट विश्व चैंपियनशिप की ही तरह बड़ी और अहम है.’ इसके पीछे रवि शास्त्री ने तर्क देते हुए कहा, ‘ऑस्ट्रेलिया में भारत को यह जीत क्रिकेट के सबसे बड़े फॉर्मेट (टेस्ट मैच) में मिली है.’ इससे पहले सोमवार को ही भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसी की धरती पर पहली बार टेस्ट सीरीज में 2-1 से मात दी थी.