इंडियन प्रीमियर लीग - 2019 के देश से बाहर आयोजित होने की अटकलों पर अब विराम लग गया है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट की तरफ से नियुक्त प्रशासकों की समिति (सीओए) ने इस टूर्नामेंट को भारत में ही आयोजित कराने का फैसला किया है. हालांकि अभी इसका पूरा कार्यक्रम तय नहीं किया गया है. इसे लेकर सीओए आईपीएल के हिस्सेदारों और संबंधित एजेंसियों व अधिकारियों से चर्चा करने के बाद ही अंतिम फैसला करेगा. फिलहाल आईपीएल के 12 वें संस्करण को 23 मार्च से शुरू कराए जाने का प्रस्ताव रखा गया है.

इससे पहले आईपीएल - 2019 के आयोजन पर ही संदेह की स्थितियां बनी हुई थीं. इसके अलावा इसे विदेशी धरती पर आयोजित कराने की अटकलें भी लग थीं. ऐसा होने के पीछे दो वजहें थीं. पहली यह कि अप्रैल-मई में देश में आम चुनाव संभावित हैं. इसके अलावा इसी साल 30 मई से इंग्लैंड की मेजबानी में क्रिकेट का विश्व कप शुरू होने जा रहा है. आम तौर पर आपीएल का आयोजन अप्रैल के पहले हफ्ते से शुरू होकर मई के आखिर तक चलता है. ऐसे में आम चुनाव के मद्देनजर सुरक्षा एजेंसियों ने इस आयोजन को सुरक्षा मुहैया कराने में असमर्थता जताई थी.

वहीं 30 मई से विश्व कप शुरू हो रहा है और क्रिकेट पर बनी लोढ़ा समिति की सिफारिशों के अनुसार आईपीएल और किसी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में कम से कम 15 दिनों का अंतर जरूरी है. ऐसे में आईपीएल को इसकी सामान्य तारीख से पहले विदेश में आयोजित कराने पर चर्चा हो रही थी.

हालांकि आईपीएल का आयोजन दो बार विदेश में हो चुका है. आम चुनाव की वजह से ही 2009 में इसे दक्षिण अफ्रीका में आयोजित कराया गया था. इसके अलावा 2014 में चुनाव की वजह से ही इसके कुछ मैच संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में खेले गए थे.