सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को जबरन छुट्टी पर भेजे जाने संबंधी आदेश को रद्द कर दिया है. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. हालांकि, शीर्ष अदालत ने कहा है कि जब तक प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली चयन समिति उनके भविष्य पर विचार नहीं करती है तब तक वे नीतिगत फैसले नहीं ले सकते हैं. वहीं, इस समिति को भी एक हफ्ते के भीतर इस बारे में विचार करने के लिए कहा गया है. दूसरी ओर, इस फैसले के बारे में केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली का कहना है कि सरकार ने केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) की सिफारिश पर आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजा था. वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का कहना है कि सीबीआई निदेशक को उनके पद पर बहाल करके सुप्रीम कोर्ट ने कुछ हद तक न्याय किया है.

सामान्य वर्ग के लिए आरक्षण को निजी शैक्षणिक संस्थानों में भी लागू करने का प्रावधान

सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए 10 फीसदी आरक्षण निजी शैक्षणिक संस्थानों में भी लागू करने की तैयारी है. हिन्दुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक इसका प्रावधान इससे संबंधित 124वें संविधान संशोधन विधेयक में किया गया है. वहीं, मौजूदा कानूनों के तहत आरक्षण निजी संस्थानों पर आंशिक रूप से लागू है. इसके तहत जो संस्थान सरकारी विश्वविद्यालय या अन्य संस्थानों से जुड़े होते हैं या किसी भी तरह की सरकारी मदद हासिल करते हैं तो इसके दायरे में आते हैं. इससे पहले शिक्षा के अधिकार (आरटीई) कानून-2009 के तहत निजी स्कूलों में भी गरीब परिवार के बच्चों के लिए 25 फीसदी आरक्षण का प्रावधान किया गया था.

नागरिकता संशोधन विधेयक की वजह से पूर्वोत्तर में भाजपा के चुनावी मंसूबों पर पानी फिरने की आशंका

नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ असम गण परिषद (एजीपी) के एनडीए का साथ छोड़ने के बाद पूर्वोत्तर के अन्य दल भी इस कतार में शामिल हो सकते हैं. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक पूर्वोत्तर के राज्यों में इस विधेयक का भारी विरोध किया जा रहा है. माना जा रहा है कि यदि पूर्वोत्तर के राज्यों में भाजपा अपने सहयोगी दलों का साथ खोती है तो उसके लोक सभा चुनाव में यहां की 25 में से 20 से अधिक सीटें जीतने की संभावना पर पानी फिर सकता है. हालांकि, केंद्र सरकार ने इस बारे में कहा है कि प्रस्तावित कानून पूर्वोत्तर के साथ राजस्थान, पंजाब, गुजरात और दिल्ली में आकर बसने वाले प्रवासियों की बेहतरी के लिए भी है. इस विधेयक को मंगलवार को लोक सभा में पारित कर दिया गया. इसके तहत बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आने वाले गैर-मुसलमान प्रवासियों को भारत की नागरिकता देने संबंधी नियमों में ढील दी गई है.

नासा ने जीवन की संभावना वाले नए ग्रह की खोज की

नासा ने सौर मंडल के बाहर एक नए ग्रह ‘एचडी21749’ की खोज की है. अमर उजाला की खबर के मुताबिक यह नया ग्रह पृश्वी से 53 प्रकाश वर्ष दूर रेटीकुलम तारामंडल के सूर्य के समान ड्वार्फ (बौने) तारे की परिक्रमा कर रहा है . बताया जाता है कि तारे के नजदीक होने के बाद भी इसके सतह का तापमान 300 डिग्री फॉरेनहाइट है. इस ग्रह के बारे में वैज्ञानिकों का कहना है कि पानी की वजह से इसका वायुमंडल घना है. साथ ही, इस पर जीवन की संभावना भी हो सकती है. इस ग्रह की खोज अप्रैल, 2018 में प्रक्षेपित सेटेलाइट ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सेटेलाइट द्वारा की गई है. इससे पहले इसने दो और नए ग्रहों की खोज की थी.