एक तरफ़ पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और कांग्रेस की स्थानीय इकाई के बीच अनबन की ख़बरें आ रही हैं. दूसरी तरफ़ ओडिशा से भी कांग्रेस के लिए निराशाजनक ख़बर आई है. राज्य के मुख्यमंत्री और सत्ताधारी बीजेडी (बीजू जनता दल) के मुखिया नवीन पटनायक ने बुधवार को स्पष्ट कर दिया कि उनकी पार्टी आगामी लोक सभा चुनाव में विपक्षी महागठबंधन का हिस्सा नहीं बनेगी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार नवीन पटनायक ने साफ कहा, ‘कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी से समान दूरी बनाकर रखना हमारी नीति रही है. हम इस पर चलते रहेंगे. जहां तक महागठबंधन (कांग्रेस के नेतृत्व में बनाने की कोशिश हो रही है) का सवाल है तो मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि बीजेडी इसका हिस्सा नहीं होगी.’ वे वित्त आयोग की बैठक से इतर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे.

ग़ौरतलब है कि इससे पहले उत्तर प्रदेश में भी कांग्रेस को विपक्षी दलों का समर्थन नहीं मिला था. वहां समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने गठबंधन कर लिया है. इसमें राष्ट्रीय लाेकदल भी शामिल है. लेकिन इस गठबंधन से कांग्रेस को अब तक बाहर रखा गया है. बल्कि आशंका तो यह भी जताई जा रही है कि सपा-बसपा के गठजोड़ से कांग्रेस को आगे भी बाहर ही रखा जा सकता है.