शिवसेना के विधायक रामदास कदम ने अपनी सहयोगी भारतीय जनता पार्टी को चेतावनी दी है. उन्होंने कहा, ‘महाराष्ट्र आकर हमें धमकी देने की कोशिश न करें. नहीं तो आपको (भाजपा को) यहीं दफ़न कर देंगे.’

दिलचस्प बात है कि रामदास कदम महाराष्ट्र की सरकार में मंत्री भी हैं, जिसका नेतृत्व भाजपा कर रही है. उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘यह मत भूलिए कि हमने लहर के बावज़ूद 63 सीटें जीती थीं.’ वे 2014 के राज्य विधानसभा चुनाव का ज़िक्र कर रहे थे. वह चुनाव भाजपा ने नरेंद्र मोदी की लहर के साए में लड़ा था. उस वक़्त राज्य की 288 में से शिवसेना ने 63 सीटें जीती थीं.

कदम ने ये तमाम बातें उस वक़्त कहीं जब उनसे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बयान पर प्रतिक्रिया मांगी गई. शाह ने इसी इतवार को कहा था, ‘अगर गठबंधन (महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ) होता है तो भाजपा अपने सहयोगियों की जीत सुनिश्चित करेगी. नहीं हुआ तो अपने पूर्व सहयोगियों को आने वाले लोक सभा चुनाव में हराकर आगे बढ़ेगी.’

ग़ाैरतलब हे कि शिवसेना और भाजपा के संबंध 2014 से ही नरम-गरम हैं. दोनों पार्टियाें ने एक-दूसरे का साथ नहीं छोड़ा है. केंद्र और राज्य की सरकारों में भी दोनों साथ हैं. फिर भी दोनों एक-दूसरे को नीचा दिखाने का कोई मौका नहीं छोड़तीं. ख़ास तौर पर शिवसेना तो आए दिन भाजपा पर हमला करती रही है. वह पिछले साल राज्य में अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान भी कर चुकी है.