कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला जारी है. उन्होंने कहा है कि बीते साढ़े चार साल के दौरान भारत में अ​सहिष्णुता बढ़ी है. इसके पीछे की वजह उन्होंने भारत की सत्ता पर बैठे लोगों की ‘मानसिकता’ को बताया है. स्क्रोल डॉट इन के मुताबिक उन्होंने यह बात संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के दुबई में भारतीय मूल के लोगों को संबोधित करते हुए कही. राहुल गांधी का कहना था, ‘सहिष्णुता भारतीय संस्कृति का हिस्सा रही है. लेकिन साढ़े चार साल पहले जब से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सत्ता में आई है लोगों में गुस्सा बढ़ा है. इसकी वजह से समाज का बंटवारा हुआ है.’

उन्होंने आगे कहा, ‘हम ऐसे भारत की कल्पना नहीं करते जहां पत्रकारों की हत्या हो. जहां निर्दोष लोगों का कत्ल किया जाए. इस सबको बदलने की जरूरत है. भारत में यह बदलाव लोकसभा के आगामी चुनाव के बाद आएगा.’ उन्होंने दावा किया कि आम चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनेगी. इसके साथ भाजपा पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने यह भी कहा, ‘हम किसी एक विचारधारा का अनुसरण नहीं कर सकते. हम यह नहीं कह सकते कि सिर्फ एक ही विचार सही है और दूसरे विचार गलत हैं.’

कांग्रेस अध्यक्ष ने इस मौके पर भारत में बेरोजगारी का मुद्दा भी उठाया. उनके मुताबिक नोटबंदी और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) जैसे फैसलों की वजह से देश में बेरोजगारी बढ़ी है. इसके साथ ही उन्होंने देश के बैंकिंग सिस्टम में बदलाव की जरूरत बताई. राहुल गांधी ने यह भी कहा कि किसानों को उनकी समस्याओं से उबारने के लिए भारत में एक और ‘हरित क्रांति’ लाए जाने की जरूरत है.

राहुल गांधी दो दिवसीय दौरे पर शुक्रवार को यूएई पहुंचे थे. शुक्रवार उन्होंने दुबई में रह रहे भारतीय कामगारों के साथ भी बातचीत की थी. इसके अलावा उसी दिन उन्होंने वहां के उप राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम के साथ भी मुलाकात की थी. दोनों नेताओं के बीच भारत व यूएई के द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत बनाने को लेकर चर्चा हुई थी.