‘अब वक्त आ गया है कि सीबीआई को राजनीति के प्रभाव से अलग किया जाए.’  

— आरएम लोढ़ा, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस

आरएम लोढ़ा ने यह बात केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा को उनके पद से हटाए जाने और फिर उनके इस्तीफे को लेकर कही है. उन्होंने आगे कहा कि जब तक यह संस्था सरकार के नियंत्रण में रहेगी ऐसी घटनाएं होती रहेंगी. जस्टिस लोढ़ा के मुताबिक, ‘तोता (सीबीआई) तब तक आसमान में पूरी तरह नहीं उड़ सकता जब तक कि उसे खुला नहीं छोड़ा जाएगा. समय आ गया है कि अब कुछ ऐसा हो जिससे कि सीबीआई एक उच्चस्तरीय जांच एजेंसी बन सके.’

‘भाजपा देश के संविधान पर चलने वाली पार्टी है.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अधिवेशन में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कही. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि इस पार्टी के लोग खुद को देश की संस्थाओं से ऊपर मानते हैं. जो कुछ उनके मुताबिक नहीं होता उसका वे विरोध करते हैं. लेकिन भाजपा बाबा साहेब आंबेडकर के संविधान को मानती है. इस मौके पर प्रधानमंत्री ने विपक्षी दलों पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि विपक्षी दल एकजुट होकर ‘मजबूर सरकार’ लाने की कोशिश में हैं. लेकिन भाजपा देश को ‘मजबूत सरकार’ देकर सबका विकास करना चाहती है.


‘पिछले पांच सालों के दौरान भारत में असहिष्णुता बढ़ी है.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के दुबई में भारतीय मूल के लोगों को संबोधित करते हुए कही. इसके पीछे की वजह उन्होंने भारत की सत्ता पर काबिज लोगों की ‘मानसिकता’ को बताया. राहुल गांधी ने आगे कहा, ‘हम ऐसे भारत की कल्पना नहीं करते जहां पत्रकारों की हत्या हो और निर्दोष लोग मारे जाएं. इसे बदलने की जरूरत है और भारत में यह बदलाव लोक सभा के आगामी चुनाव के बाद आएगा.’


‘सपा-बसपा का गठजोड़, लोहिया और आंबेडकर को मानने वालों का गठबंधन है.’  

— मायावती, बसपा सुप्रीमो

मायावती ने यह बात आगामी आम चुनाव के मद्देनजर समाजवादी पार्टी (सपा) व बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के गठबंधन को लेकर कही है. साथ ही उन्होंने इसे ‘गुरु-चेला’ (अमित शाह व नरेंद्र मोदी) की नींद उड़ाने वाला गठबंधन भी बताया. भाजपा व कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मायावती ने आगे कहा कि कांग्रेस को बोफोर्स तोप सौदे ने चुनाव हरवाया था. अब रफाल सौदे का घोटाला भाजपा की हार का कारण बनेगा.


‘अगर जरूरत पड़ी तो कांग्रेस अकेले अपने दम पर उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ेगी.’  

— पी चिदंबरम, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता

पी चिदंबरम का यह बयान आगामी आम चुनाव के मद्देनजर उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा के गठजोड़ पर आया है. उनके मुताबिक उत्तर प्रदेश में व्यापक आधार वाला गठबंधन तैयार होगा. साथ ही चुनावी दृष्टिकोण के मुताबिक इस गठबंधन पर भी जरूर पुनर्विचार किया जाएगा. पी चिदंबरम ने आगे कहा, ‘मैं समझता हूं कि गठबंधन को लेकर सपा-बसपा ने अभी अपना फैसला नहीं लिया है.’