कांग्रेस पार्टी ने अगले लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की सभी 80 सीटों पर अकेले लड़ने की घोषणा की है. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. पार्टी के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि यदि कांग्रेस गठबंधन में शामिल होती तो 25 सीटों पर लड़ती लेकिन, अब सभी 80 सीटों पर पार्टी अपने उम्मीदवार उतारेगी. हालांकि, उन्होंने कहा है कि यदि कोई धर्मनिरपेक्ष पार्टी उनके साथ आना चाहे, तो इस पर भी विचार किया जाएगा. इससे पहले शनिवार को सपा और बसपा ने राज्य की 76 सीटों पर मिलकर चुनाव लड़ने का ऐलान किया था. साथ ही, चार सीटें कांग्रेस और राष्ट्रीय लोक दल के लिए छोड़ दी थीं. माना जा रहा है कि इनमें कांग्रेस के लिए उसकी परंपरागत रायबरेली और अमेठी की सीट है.

मध्य प्रदेश : गोवंश लावारिस छोड़ने को अपराध की श्रेणी में लाने की तैयारी

मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार गोवंश को लावारिस छोड़ने को अपराध की श्रेणी में रखने की तैयारी में है. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक कमलनाथ सरकार इस पर कानून बनाने को लेकर विचार कर रही है. इसके तहत जुर्माने की रकम को 250 रुपये से बढ़ाकर 500 रुपये किया जा सकता है. इससे पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने छिंदवाड़ा में कहा था कि उन्हें गोमाता सड़क पर नहीं दिखनी चाहिए. वहीं, पशुपालन मंत्री डॉ लाखन सिंह यादव ने बताया कि सरकार लावारिस गोवंश को गोशालाओं में रखने की तैयारी में है. इसके लिए पायलट प्रोजेक्ट 16 जनवरी से भोपाल में शुरू होगा.

अगस्त, 1947 में एक गलती हुई थी. यह (कॉरिडोर) उसी का हर्जाना है : नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पूर्व समकक्ष मनमोहन सिंह की मौजूदगी में एक कार्यक्रम के दौरान करतारपुर कॉरिडोर को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है. नवभारत टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक उन्होंने कहा, ‘अगस्त, 1947 में एक गलती हुई थी. यह (कॉरिडोर) उसी का हर्जाना है. हमारे गुरु का महत्वपूर्ण स्थान कुछ ही दूरी पर था लेकिन, इसे भारत का हिस्सा नहीं बनाया गया. यह कॉरिडोर उसी नुकसान को कम करने की तैयारी है.’ इसके आगे प्रधानमंत्री 1984 के सिख दंगों को लेकर भी कांग्रेस को घेरने की कोशिश की. नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘चाहे गुरु नानक हों या गुरु गोविंद सिंह, उन्होंने हमें न्याय का पक्षधर बनना सिखाया. उनके दिखाए रास्ते पर चलते हुए हम 1984 से शुरू हुए अन्याय के लिए न्याय दिलाने का प्रयास कर रहे हैं.’

फिल्म निर्देशक राजकुमार हिरानी पर यौन शोषण के आरोप

फिल्म निर्देशक राजकुमार हिरानी पर एक महिला ने यौन शोषण का आरोप लगाया है. हिन्दुस्तान की खबर के मुताबिक शिकायतकर्ता महिला ‘संजू’ फिल्म में आरोपित निर्देशक के साथ काम कर रही थी. एक वेबसाइट को महिला ने बताया कि बीते साल मार्च से लेकर सितंबर के बीच राजकुमार हिरानी ने उसका एक बार से अधिक यौन शोषण किया. महिला के मुताबिक नौ अप्रैल को आरोपित ने उसे लेकर भद्दी टिप्पणी भी की थी. शिकायत करने वाली इस महिला का कहना है कि उस वक्त उसके पास चुप रहने के अलावा कोई विकल्प नहीं था क्योंकि, वह अपनी नौकरी नहीं खोना चाहती थी. उधर, राजकुमार हिरानी ने अपने ऊपर लगे आरोपों का खंडन किया है. उनके वकील ने कहा है कि सारे आरोप झूठे और बेबुनियाद हैं जिन्हें हिरानी की छवि खराब करने की कोशिश के तहत जानबूझकर लगाया गया है.