पाकिस्तान के फ़ैसलाबाद में स्थित कृषि विश्वविद्यालय प्रशासन इस बार वेलेंटाइन डे पर 14 फरवरी को नया प्रयोग कर रहा है. विश्वविद्यालय प्रशासन ने फ़ैसला किया है कि वेलेंटाइन डे के बज़ाय इस दिन ‘बहन दिवस’ मनाया जाए.

पाकिस्तान के अख़बार डॉन के हवाले से आई ख़बर के अनुसार विश्वविद्यालय के कुलपति (वीसी) ज़फ़र इक़बाल रंधावा की अध्यक्षता में हुई एक बैठक के दौरान यह फ़ैसला किया गया. इसका मक़सद इस्लामिक परंपराओं को बढ़ावा देना और युवा पीढ़ी को अंग्रेजी संस्कृति के प्रभाव से दूर करना है. बताया जाता है कि 14 फरवरी को ‘बहन दिवस’ पर छात्र विश्वविद्यालय की छात्राओं को बुरक़ा-नक़ाब आदि उपहार में देकर उनके प्रति सम्मान व्यक्त करेंगे.

इस बारे में रंधावा ने कहा, ‘मुस्लिम समुदाय के कई लोगों को लगता है कि वेलेंटाइन डे जैसी पश्चिमी परंपराएं इस्लामिक संस्कृति के लिए चुनौती हैं. लेकिन मैं मानता हूं कि इस तरह की चुनौतियों को भी अवसर में तब्दील किया जा सकता है. इसीलिए यह पहल (बहन दिवस मनाने की) शुरू की है. हालांकि मुझे नहीं पता कि यह विचार कितना लोकप्रिय होगा. मगर यह इस्लामिक परंपराओं के अनुकूल तो है. इससे हम अपनी बहनों के प्रति संवेदना भी प्रकट कर सकेंगे.’