पहली बार हमारी दुनिया से बाहर चांद पर कोई पौधा पनप रहा है. चांद पर भेजे गए चीन के रोवर पर कपास के बीज अंकुरित होने शुरू हो गए हैं. मंगलवार को चीनी वैज्ञानिकों ने मीडिया को इसकी जानकारी दी है.

पीटीआई के मुताबिक इस प्रोजेक्ट से जुड़े वैज्ञानिक शाइ गेंगशिन ने बताया, ‘चीनी रोवर चांग’इ-4 इस महीने चंद्रमा पर उतरा था. हमने वायु, जल एवं मिट्टी युक्त 18 सेंटीमीटर का एक बाल्टीनुमा डिब्बा भेजा था जिसके भीतर कपास, आलू और सरसों के बीज के बोए गए थे.’

शाइ गेंगशिन के मुताबिक रोवर से मिली तस्वीरों में देखा गया है कि कपास के अंकुर बढ़िया से विकसित हो रहे हैं. यह पहला मौका है जब मानव ने चंद्रमा की सतह पर जीव विज्ञान में पादप विकास के लिए प्रयोग किए और इसमें शुरूआती सफलता मिली है. हालांकि, कपास के अलावा अन्य पौधों के बीज अब तक अंकुरित नहीं हुए हैं.

चीन ने बीते महीने चंद्रमा की सतह का अध्ययन करने के मकसद से चांग’ई-4 लैंड रोवर का प्रक्षेपण किया था. यह तीन जनवरी को सफलता पूर्वक चंद्रमा पर उतरा था. बाकी देशों के अभियानों के मुकाबले चीन का यह अभियान सबसे अलग है. यह पहली बार है जब धरती से भेजा गया कोई उपकरण चंद्रमा की उस सतह पर उतरा, जो धरती से दिखाई नहीं देती.

वैज्ञानिकों के मुताबिक चंद्रमा का जो हिस्सा धरती की तरफ है, वो समतल है और इस वजह से यहां लैंड रोवर जैसे उपकरणों को उतारना आसान है. इसके उलट चंद्रमा के दूसरी तरफ सतह काफी ऊबड़-खाबड़ है और इसके बारे में अब तक ज्यादा अध्ययन नहीं हुए हैं.