बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता तेजस्वी यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों पर रुख अख्तियार करने में राहुल गांधी की ‘अक्षमता’ के कारण वे विपक्षी गठबंधन से बाहर निकल गए.

पीटीआई के मुताबिक जेडीयू अध्यक्ष ने कहा कि जब वे गठबंधन छोड़ रहे थे, तब राहुल गांधी ने कोई बयान तक नहीं दिया जिससे वे अपने फैसले को लेकर दोबारा सोच सकें. नीतीश ने कहा कि राहुल गांधी ने उन्हें निराश किया. इसके साथ ही नीतीश ने दावा किया कि उनकी पार्टी ने 2015 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 40 सीटें दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

नीतीश ने ये बातें एक समाचार चैनल द्वारा आयोजित कार्यक्रम में कहीं. उन्होंने कहा, ‘मेरा हमेशा से रुख रहा है कि अपराध, भ्रष्टाचार और सांप्रदायिकता से कोई समझौता नहीं होगा. उनकी (आरजेडी) कार्यशैली इस तरह की थी कि मेरे लिए काम करना मुश्किल होता जा रहा था. सभी स्तरों पर हस्तक्षेप था. उनके लोग अपने फरमानों के साथ थाने में टेलीफोन करते थे.’