कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सीपी जोशी बुधवार को राजस्थान की नवगठित 15वीं विधानसभा के अध्यक्ष चुन लिए गए. उनके निर्वाचन को सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों का समर्थन रहा. इसलिए निर्वाचन निर्विरोध हो गया.

ख़बरों के मुताबिक सीपी जोशी के नाम का प्रस्ताव मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिया. इसका विधानसभा में विपक्ष के नेता गुलाबचंद कटारिया अनुमोदन किया. चुनाव के बाद सभी सदस्यों का आभार जताते हुए जोशी ने कहा, ‘विधानसभा नियम-कानून से चलती है. सत्ता पक्ष और विपक्ष सहित सभी पार्टियों को ध्यान रखना चाहिए कि नियम-कानून से कम समय में जनआंकाक्षाओं के अनुरूप काम हो. जहां तक मेरा सवाल है तो मेरी पूरी कोशिश होगी कि विधानसभा अध्यक्ष पद की गरिमा के अनुरूप निष्पक्ष ढंग से काम कर सकूं.’

ग़ौरतलब है कि पांचवीं बार विधायक चुने गए सीपी जोशी इससे पहले केंद्र की यूपीए (संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन) सरकार में पंचायतीराज, ग्रामीण विकास, भूतल परिवहन व राजमार्ग जैसे मंत्रालयाें के मंत्री रहे हैं. साथ ही राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. वे वर्तमान में राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष भी हैं.