कुंवारी युवतियों को ‘सीलबंद बोतल’ कहने वाले जाधवपुर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर कनक सरकार के शिक्षण अधिकार छीन लिए गए हैं और उनके विश्वविद्यालय परिसर में प्रवेश पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गयी है.

जाधवपुर यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर सुरंजन दास ने बुधवार को संवाददाताओं को बताया कि कनक सरकार को कक्षाओं में पढ़ाने या विश्वविद्यालय में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी. दास के मुताबिक यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है जो विश्वविद्यालय की नियुक्ति समिति की जांच तक लागू रहेगा. इसके साथ ही विश्वविद्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है, ‘विश्वविद्यालय के संविधान के अनुरूप और कानूनी विशेषज्ञों से राय मशविरा कर प्रोफेसर कनक सरकार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है.’

कनक सरकार जाधवपुर विश्वविद्यालय के अंतरराष्ट्रीय संबंध विभाग में प्रोफेसर हैं. उन्होंने महिलाओं के लिए अपमानजनक टिप्पणी करते हुए कहा था कि कुंवारी युवती ‘सीलबंद बोतल’ या ‘पैकेट’ की तरह होती है. उन्होंने रविवार को अपने फेसबुक पेज पर यह टिप्पणी पोस्ट की थी. हालांकि उन्होंने बाद में इस टिप्पणी को हटा दिया लेकिन उसका स्क्रीन शॉट वायरल हो गया. इसके बाद प्रोफेसर के इस बयान पर विवाद खड़ा हो गया. वहीं सरकार ने अपने बयान का बचाव करते हुए कहा था कि यह सोशल मीडिया पर दोस्तों के समूह के बीच ‘मस्ती’ के लिए की गई पोस्ट थी.