कर्नाटक में चल रही राजनीतिक उठापटक का जल्द ही अंत हो सकता है. ख़बराें की मानें तो बीते तीन-चार दिन से गुरुग्राम, हरियाणा के एक होटल में जमे भारतीय जनता पार्टी के सभी 104 विधायक बेंगलुरु वापस लौट रहे हैं.

भाजपा विधायक दल के नेता बीएस येद्दियुरप्पा ने गुरुवार को इसकी पुष्टि की है. वे ख़ुद बेंगलुरु पहुंच चुके हैं. वहीं उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘हमारे सभी विधायक कल (शुक्रवार) तक वापस आ जाएंगे.’ साथ ही उन्होंने राज्य के सत्ताधारी जेडीएस (जनता दल-सेकुलर)-कांग्रेस गठबंधन पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘वे हमारे ऊपर ऑपरेशन कमल (सत्ताधारी गठबंधन के विधायकों को तोड़ने के लिए) चलाने का आरोप लगा रहे हैं. वे बताएं कि हम कौन ऑपरेशन चला रहे हैं. बल्कि वे हमारे विधायकों काे तोड़ने की कोशिश कर रहे थे. मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने ख़ुद हमारे एक विधायक को मंत्री पद और पैसे का लालच दिया था.’

ज़वाब में कांग्रेस के नेता और राज्य के उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वरा ने कहा, ‘उनकी ‘ऑपरेशन कमल’ की पूरी नौटंकी असफल साबित हुई है. हमारी सरकार को अस्थिर करने की कोई कोशिश सफल नहीं होगी. हमारे सभी विधायक एकजुट हैं. बीती शाम हमारे वे दो विधायक (भीमा नायक और आनंद सिंह) भी लौट आए हैं जिन्हें ‘लापता’ बताया जा रहा था.’ ग़ौरतलब है कि भाजपा ने 2008 में कांग्रेस के तीन और जेडीएस के चार विधायकों से इस्तीफ़ा दिलवाकर कर्नाटक में अपनी सरकार बना ली थी. उसी को ‘ऑपरेशन कमल’ कहा गया था. अटकलें थीं कि भाजपा कुछ ऐसे ही प्रयास इस बार भी जेडीएस-कांग्रेस की सरकार के ख़िलाफ़ कर रही है.