लोकसभा के आगामी चुनाव के मद्देनजर आम आदमी पार्टी (आप) ने कांग्रेस के साथ किसी तरह के गठजोड़ की संभावनाओं से इनकार किया है. खबरों के मुताबिक इसे लेकर आप की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने कहा है, ‘हमने जहर का घूंट पीकर देशहित में कांग्रेस के साथ समझौता करने पर विचार किया था. लेकिन कांग्रेसी नेताओं के हाल के बयानों से लगता है कि इस पार्टी के लिए उसका अहंकार देशहित से ऊपर है.’

गोपाल राय ने आगे कहा, ‘समान सोच रखने वाले फारुख अब्दुल्ला, एमके स्टालिन, चंद्रबाबू नायडू, ममता बनर्जी जैसे नेताओं ने आप से कांग्रेस के साथ गठजोड़ करने की अपील की थी. वैचारिक मतभेदों को भुलाकर हमने इसकी कोशिश भी की. लेकिन कांग्रेस के नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह व शीला दीक्षित के आप विरोधी बयानों को देखते हुए हमने अब अपना इरादा बदल दिया है.’

गोपाल राय का यह भी कहना है कि उनकी पार्टी दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और गोवा की सभी संसदीय सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी. साथ ही वह इन राज्यों में अकेले अपने दम पर चुनाव लड़ेगी. माना जा रहा है कि आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल जल्दी ही प्रत्याशियों के नामों की घोषणा भी कर सकते हैं.

इस बीच कांग्रेस की दिल्ली इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष देवेंद्र यादव ने दावा किया है कि आम आदमी पार्टी खुद कांग्रेस के साथ गठबंधन की इच्छुक थी. इसके लिए वह लगातार कांग्रेस का पीछा भी कर रही थी. हालांकि गोपाल राय के बयान पर शीला दीक्षि​त ने फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. इससे पहले उन्होंने कहा था कि कांग्रेस और आप के बीच चुनावी गठबंधन को लेकर पार्टी हाईकमान ही कोई फैसला करेगा.