दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति पर सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश अरुण मिश्रा की टिप्पणी को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. शुक्रवार को एक याचिका की सुनवाई के दौरान उन्होंने कहा, ‘प्रदूषण से जैसे यहां (दिल्ली) हालात हो गए हैं, उससे साफ है कि यह शहर अब रहने लायक नहीं बचा है. वे खुद यहां नहीं रहना चाहते हैं.’ वहीं, शुक्रवार को दिल्ली की वायु गुणवत्ता बेहद खराब श्रेणी में दर्ज की गई. हालांकि, सोमवार को बारिश के आसार की वजह से इसमें सुधार की उम्मीद भी जाहिर की गई है.

आगामी आम चुनाव तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैलियों की संख्या 300 तक पहुंचने के आसार

भाजपा ने आगामी लोक सभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान में नरेंद्र मोदी की अहम भूमिका तैयार की है. अमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा के स्टार प्रचारक नरेंद्र मोदी मई में चुनाव खत्म होने तक करीब 300 तक चुनावी रैलियों को संबोधित कर सकते हैं. इसकी शुरुआत एक हफ्ते पहले हो चुकी है. बताया जाता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीते करीब पांच साल में शुरू की गई सभी परियोजनाओं का उद्घाटन चुनावी आचार संहिता लागू होने से पहले करना चाहते हैं. इस उद्घाटन कार्यक्रम के बाद वे वहां एक सार्वजनिक सभा को भी संबोधित करेंगे. इसके अलावा वे अपने मोबाइल एप के जरिए भी अलग-अलग तबकों के साथ बातचीत करेंगे.

झारखंड : महागठबंधन की रूप-रेखा तय, हेमंत सोरेन चेहरा

झारखंड में भाजपा के खिलाफ महागठबंधन की रूप-रेखा करीब-करीब तय होता दिख रही है. नवभारत टाइम्स ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि राज्य में विपक्षी पार्टियों ने विधानसभा चुनाव के लिए झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष हेमंत सोरेन को अपना नेता चुना है. साथ ही, कांग्रेस की अगुवाई में लोक सभा के चुनावी दंगल में उतरने की बात भी कही गई है. हालांकि, सीटों के बंटवारे को लेकर अभी तक विपक्षी दलों के बीच कोई सहमति नहीं बन पाई है. बताया जाता है कि इस महागठबंधन में इन दोनों पार्टियों के साथ बाबू लाल मरांडी की झारखंड विकास मोर्चा, राजद और लेफ्ट दल भी शामिल होंगे. वहीं, ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (आजसू) ने अकेले चुनावी मैदान में उतरने का एलान किया है.

खराब खाने की शिकायत करने वाले जवान तेज बहादुर का बेटा मृत पाया गया

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) से बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव का 20 वर्षीय बेटा हरियाणा के रेवाड़ी में मृत पाया गया है. हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक मृतक के शरीर पर गोली के निशान हैं. इस बारे में पुलिस ने बताया है कि तेज बहादुर ने अपने बयान में कहा है कि उन्होंने अपनी लाइसेंसी पिस्तौल घर में छिपा कर रखी थी. लेकिन, किसी तरह उनके बेटे के हाथ लग गई. बताया जाता है कि इस घटना के वक्त वे प्रयागराज के कुंभ मेले में थे. वहीं, उनकी पत्नी भी घर में नहीं थी. तेज बहादुर यादव जवानों को खराब खाना दिए जाने संबंधी वीडियो को सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के बाद सुर्खियों में आए थे. इसके चलते बाद में 2017 में उन्हें नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया.