साल के पहले महीने का 22वां दिन इतिहास में एक दुखद घटना के साथ दर्ज है. 22 साल पहले आज ही के दिन उड़ीसा के क्योंझर में उत्पाती भीड़ ने ऑस्ट्रेलियाई मिशनरी ग्राहम स्टेंस और उनके दो बेटों को जिंदा जला दिया था. इस घटना की चर्चा पूरी दुनिया में हुई दी.

स्टेंस राज्य के मनोहरपुर गांव में करीब 30 वर्षों से कुष्ठ रोगियों के लिए काम कर रहे थे. लेकिन उन पर इलाके में धर्मांतरण कराने का आरोप भी लगा था. इससे गुस्साई भीड़ ने स्टेंस और उनके दो बेटों को उनकी गाड़ी पर पेट्रोल छिड़क कर जला डाला था.

देश-दुनिया के इतिहास में 22 जनवरी के दिन दर्ज कुछ और महत्वपूर्ण घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है:

1666 : दुनिया को ताज महल के रूप में मोहब्बत का अजीम तोहफा देने वाले मुगल बादशाह शाहजहां का निधन.

1901 : महारानी विक्टोरिया का निधन. उन्होंने 1837 में ग्रेट ब्रिटेन और आयरलैंड की महारानी के रूप में सिंहासन संभाला और अपनी मृत्यु तक इस पर रहीं.

1973 : नाइजीरिया में जॉर्डन एयरलाइंस का विमान दुर्घटनाग्रस्त होने से करीब 200 लोगों की मौत.

1973 : अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने गर्भपात को कानूनी तौर पर मान्यता दी. इसे अपराध की श्रेणी से निकालते हुए अदालत ने इसे महिला की निजता का संवैधानिक अधिकार बताया.

1980 : सोवियत संघ ने सरकार-विरोधी परमाणु वैज्ञानिक आन्द्रेई सखारोव को नज़रबंद किया. नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित सखारोव ने एक अमेरिकी टेलिविजन चैनल को दिए साक्षात्कार में अफगानिस्तान से सोवियत सेनाएं वापस बुलाने की मांग की थी.

1996 : कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय की वैधशाला के वैज्ञानिकों ने पृथ्वी से तकरीबन 3,50,000 प्रकाश वर्ष की दूरी पर दो नए ग्रहों की खोज की.

2001 : पाकिस्तान ने देश में तालिबान के सभी कार्यालयों को बंद किया और आतंक सरगना ओसामा बिन लादेन की संपत्तियों पर रोक लगा दी.