देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति-सुज़ुकी ने अपनी लोकप्रिय हैचबैक वैगन-आर का नया अवतार बाज़ार में उतार दिया है. यह वैगन-आर की तीसरी पीढ़ी है. कंपनी ने इस कार को भारत में सबसे पहले 1999 में लॉन्च किया था. तभी से इसे शानदार प्रतिक्रिया मिलती रही है. वैगन-आर की लोकप्रियता इस बात से समझी जा सकती है कि सेगमेंट (ए-2) के करीब 20 प्रतिशत हिस्से को यह अकेले ही घेरे हुए है. यही नहीं; करीब 22 लाख यूनिट बिक्री के साथ इस कार का नाम बीते एक दशक में भारत में सर्वाधिक बेची गई पांच शीर्ष कारों में भी शुमार है.

कंपनी का कहना है कि नई वैगन-आर पहले से करीब 65 किलोग्राम हल्की लेकिन, ज्यादा मजबूत और दमदार है. मारुति-सुज़ुकी ने इस कार को अपने नए प्लेटफॉर्म ‘हार्टटैक’ पर तैयार किया है. यह वही प्लेटफॉर्म पर है जिसे कंपनी ने अपनी प्रीमियम हैचबैक बलेनो, हैचबैक स्विफ्ट और इग्निस के निर्माण में इस्तेमाल किया है. एंटीलॉक ब्रेकिंग सिस्टम (एबीएस), इलेक्ट्रॉनिक ब्रेक फोर्स डिस्ट्रीब्यूशन (ईबीडी), सीट बेल्ट रिमाइंडर विद बज़र, स्पीड अलर्ट सिस्टम, रियर पार्किंग सेंसर, सेंट्रल लॉकिंग और चाइल्ड प्रूफ रियर डोर लॉक सिस्टम के साथ दो एयरबैग जैसे सेफ्टी फीचर्स नई वैगन आर को खासा सुरक्षित बनाते हैं.

वैगन-आर 2019 को पहले से 145 मिमी ज्यादा चौड़ा और 25 एमएम ज्यादा लंबा बनाया गया है. इस वजह से यह कार न सिर्फ दिखने में बड़ी लगती है बल्कि अंदर बैठने पर भी खासी बड़ी महसूस होती है. कंपनी का दावा है कि उसने इस कार में बेस्ट इन क्लास बूट स्पेस उपलब्ध करवाया है ताकि फैमिली के साथ ट्रिप पर जाते समय आपको सामान रखने की कोई फिक्र सताने न पाए.

लुक्स के मामले में कंपनी ने वैगन-आर के नए अवतार में कार की टॉल बॉय वाली इमेज़ को बरक़रार रखा है. हालांकि नए डुअल-स्प्लिट हैडलैंप्स, क्रोम स्लेट वाली नई ग्रिल, इंटीग्रेटेड टर्न लाइट वाले ओआरवीएम, नए वर्टिकल टेललैंप्स और रियर विंडस्क्रीन वाइपर्स की वजह से वैगन-आर 2019 खासी आकर्षक हो गई है. फीचर्स के मामले में मारुति-सुज़ुकी ने अपनी इस नई पेशकश के साथ स्मार्टफोन कनेक्टिविटी, वाहन की जानकारी के साथ एपल कारप्ले और एंड्रॉयड ऑटो जैसे फीचर्स वाला स्मार्टप्ले स्टूडियो सिस्टम दिया है. साथ ही इस कार में स्मार्टप्ले डॉक सिस्टम और स्टीयरिंग माउंटेड कंट्रोल्स जैसे अपडेटेड फीचर्स भी हैं.

वैगन-आर 2019 से जुड़े सबसे बड़े बदलाव की बात करें तो वह आपको इसके बोनट के नीचे नज़र आता है. यहां कंपनी ने के-सीरीज़ का 1.2-लीटर क्षमता वाला पेट्रोल इंजन दिया है जो 82 बीएचपी की अधिकतम पॉवर के साथ 113 एनएम का पीक टॉर्क पैदा करता है. कंपनी का दावा है कि यह इंजन 21.5 किमी/लीटर की माइलेज देने में सक्षम है. इसके अलावा मारुति ने कार के साथ अपने 1.0-लीटर क्षमता वाले मौजूदा पेट्रोल इंजन को भी विकल्प के तौर पर उपलब्ध करवाया है जो 67 बीएचपी की पॉवर के साथ 90 एनएम का टॉर्क उत्पन्न करता है और 22 किमी/लीटर की माइलेज देने में सक्षम है. ये दोनों ही इंजन 5-स्पीड मैनुअल और ऑटोमेटेड ट्रांसमिशन बॉक्स के साथ जोड़े गए हैं.

दोनों इंजनों के आधार पर कंपनी ने वैगन-आर 2019 के तीन वेरिएंट और सात मॉडल- एलएक्सआई 1.0 ली, वीएक्सआई 1.0 ली, वीएक्सआई एजीएस 1.0 ली, वीएक्सआई 1.2 ली, वीएक्सआई एजीएस 1.2 ली, ज़ेडएक्सआई 1.2 ली और ज़ेडएक्सआई एजीएस 1.2 ली- पेश किए हैं. इसके अलावा इस कार को छह कलर्स - सुपीरियर व्हाइट, सिल्की सिल्वर, मैग्मा ग्रे, पर्ल नटमेग ब्राउन, पर्ल ऑटम ऑरेंज और पर्ल पूलसाइड ब्ल्यू- में उपलब्ध करवाया गया है.

जानकारों का कहना है कि वैगन-आर 2019 सबसे ज्यादा युवाओं को आकर्षित करने वाली है. इस कार का व्यवसायिक इतिहास भी इस बात की गवाही देता है. उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक इस कार की कुल बिक्री में 41 फीसदी भागीदारी 35 वर्ष से कम लोगों की है. इसके अलावा नई वैगन-आर उन मध्यमवर्गीय एकल परिवारों को भी खूब लुभा सकती है जो अपनी पहली कार खरीदने का मन बना रहे हैं. दिल्ली में इस कार की शुरुआती एक्स शोरूम कीमत 4.19 लाख रुपए रखी गई है. कार के टॉप मॉडल के लिए यह 5.69 लाख रुपए तक जाती है.

विश्लेषकों की मानें तो इस बजट रेंज और फीचर्स के साथ वैगन-आर 2019 हाल ही में लॉन्च हुई ह्युंडई सेंट्रो की सफलता को तो प्रभावित करेगी ही, टाटा टिआगो और रेनो क्विड के लिए भी वह बड़ी मुश्किल खड़ी कर सकती है.