कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. एनडीटीवी के मुताबिक उन्होंने कहा है, ‘मैं महसूस करता हूं कि मेरे और नरेंद्र मोदी के बीच अनेक मुद्दों पर असहमति हैं. मेरी इच्छा है कि वे (मोदी) प्रधानमंत्री पद पर न रहें. इसके लिए मैं अपनी तरफ से पूरी कोशिश करूंगा. मैं उनसे मुकाबला करूंगा. लेकिन उनसे नफरत नहीं करूंगा. जब वे प्रधानमंत्री नहीं होंगे तब भी मैं उन्हें उनकी राय रखने का अधिकार दूंगा.’ कांग्रेस अध्यक्ष ने ये बातें ओडिशा के भुवनेश्वर में एक रैली को संबोधित करते हुए कहीं.

उन्होंने आगे कहा, ‘प्रधानमंत्री जब मेरे लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करते हैं तो मुझे ऐसा लगता है कि मैं उनके गले लग रहा हूं... मैं जानता हूं कि वे कांग्रेस पार्टी से खफा हैं. लेकिन इस बात के लिए मैं उनसे नाराज नहीं हूं. इसकी बड़ी वजह यह भी है कि कांग्रेस के लोग नफरत में विश्वास नहीं करते.’ इस मौके पर उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर भी निशाना साधा. भाजपा और संघ की तरफ से की जाने वाली अपनी आलोचनाओं को उन्होंने खुद के लिए बड़ा तोहफा बताया. उन्होंने यह भी कहा कि मोदी सरकार के ज्यादातर मंत्रियों को संघ नियंत्रित करता है.

खबरों के मुताबिक राहुल गांधी ने इस दौरान बेरोजगारी और रफाल विमान सौदे पर भी केंद्र सरकार को घेरा. इसके साथ ही ओडिशा में कांग्रेस की सरकार बनने पर उन्होंने राज्य के किसानों का कर्ज माफ करने का वादा भी किया. उन्होंने यह भी कहा कि किसानों का कर्ज महज दस दिनों के भीतर माफ किया जाएगा. ओडिशा में इसी साल राज्य विधानसभा के चुनाव भी होने हैं. यह चुनाव लोकसभा के आगामी चुनाव के साथ ही कराया जाएगा.