प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तीन मार्च को पटना के गांधी मैदान में होने वाली एनडीए की रैली में एक साथ शिरकत करेंगे. रैली के जरिए दोनों नेता बतौर एनडीए सहयोगी एक साथ लोकसभा चुनाव के अभियान की शुरुआत करेंगे. खबर के मुताबिक रैली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और एलजेपी प्रमुख व केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के अलावा एनडीए के अन्य नेता भी मौजूद रहेंगे. कहा जा रहा है कि चुनाव आयोग द्वारा मार्च की शुरुआत में आम चुनाव की तारीखों का एलान करने की संभावना को देखते हुए भाजपा के नेतृत्व में एनडीए सहयोगियों ने इस रैली के लिए तीन मार्च की तारीख चुनी है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक बिहार में जेडीयू के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह और भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय व एलजेपी अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस ने एक साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि रैली में एनडीए लोगों को बताएगा कि नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार ने बतौर (क्रमशः) प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री उनके लिए क्या काम किए हैं.’ रैली को लेकर नारायण सिंह ने कहा, ‘यह सब रैलियों से बड़ी रैली होगी. हमें उम्मीद है कि तीन दलों की संगठन शक्ति रिकॉर्ड संख्या में लोगों को लाने में कामयाब होगी.’

वहीं, भाजपा के नित्यानंद राय ने कहा कि एनडीए मोदी और नीतीश के कामों की तुलना विपक्षी दलों के 55 साल के कामों से करेगा. उन्होंने कहा, ‘हमारा मकसद लोगों के सामने सही तस्वीर पेश करना है, ताकि वे विकास को लेकर यूपीए द्वारा फैलाई जा रही गलत जानकारी पर विचार कर सकें.’