उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले में रविवार देर शाम एक अपराधी के साथ मुठभेड़ के दौरान पुलिस के जवान हर्ष चौधरी गंभीर रूप से ज़ख़्मी हो गए. बाद में इलाज़ के दौरान उनकी मौत हो गई. उनकी उम्र 26 साल थी.

उत्तर प्रदेश पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी आनंद कुमार ने एनडीटीवी को बताया, ‘हमें एक कुख्यात अपराधी शिवअवतार के बारे में पुख़्ता सूचना मिली थी. पता चला था कि बछरौन पुलिस थाने के इंद्रपुर गांव में वह मौज़ूद है. इस सूचना के आधार पर शिवअवतार को पकड़ने के लिए पुलिस दल भेजा गया. उसके ऊपर 19 आपराधिक मामले चल रहे थे. मौके पर पुलिस टीम ने जब उसे आत्मसमर्पण करने को कहा तो उसने गोलियां चला दीं. इससे हर्ष चौधरी घायल हाे गए. उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया लेकिन बचाया नहीं जा सका. इस बीच ज़वाबी कार्रवाई में पुलिस ने शिवअवतार को भी मार गिराया.’

इस घटना के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हर्ष चौधरी की पत्नी को 40 लाख रुपए का मुआवज़ा देने की घोषणा की है. इसके अलावा हर्ष के माता-पिता काे भी 10 लाख रुपए का मुआवज़ा दिया जाएगा. पत्नी को पेंशन और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की भी घोषणा की गई है. वैसे आधिकारिक आंकड़ों की मानें तो भारतीय जनता पार्टी के सत्ता में आने के बाद हर्ष सहित सात पुलिसकर्मी ऐसी मुठभेड़ों में मारे जा चुके हैं.