पांच वनडे मैचों की सीरीज के तीसरे मुकाबले में शानदार जीत दर्ज करते हुए भारत ने न्यूजीलैंड पर अजेय बढ़त बना ली है. सोमवार को माउंट मॉनगनुई में खेले गए मुकाबले में भारत ने मेजबान टीम को सात विकेट से शिकस्त दी. इस सीरीज के पहले मुकाबले में भारत ने न्यूजीलैंड को आठ विकेट से जबकि दूसरे मुकाबले में 90 रन से हराया था.

आज खेले गए मुकाबले में कीवी कप्तान केन विलियम्सन ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. लेकिन उनका यह फैसला सही साबित नहीं हुआ. टीम के तीन बल्लेबाज 59 के योग पर पवेलियन लौट गए. हालांकि रॉस टेलर (93) और टॉम लैथम (51) ने संघषपूर्ण पारियों के दम पर न्यूजीलैंड का स्कोर सम्मानजनक स्थिति तक पहुंचाया. टीम को कोई अन्य बल्लेबाज कुछ विशेष नहीं कर सका और मेजबान टीम 49वें ओवर में 243 रन बनाकर आउट हो गई. भारत की तरफ से मोहम्मद शमी ने सबसे ज्यादा तीन विकेट लिए जबकि भुवनेश्वर कुमार, युजवेंद्र चहल और हार्दिक पंड्या को दो-दो विकेट मिले.

244 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत भी कुछ खास नहीं रही. 39 के योग पर शिखर धवन के रूप में उसका पहला विकेट गिरा. उन्होंने 29 गेंदों पर 27 रन बनाए. इसके बाद कप्तान विराट कोहली ने उपकप्तान रोहित शर्मा के साथ दूसरे विकेट के लिए 113 साझेदारी की. रोहित शर्मा ने 77 गेंदों पर 62 जबकि कोहली ने 74 गेंदों का सामना करते हुए 60 रन की पारी खेली.

इन दोनों बल्लेबाजों के आउट होने के बाद बाकी का काम बिना अपने विकेट गंवाए अंबाती रायडू और दिनेश कार्तिक ने कर दिया. रायडू ने 42 गेंदों पर 40 रन तो वहीं कार्तिक ने 38 गेंदों पर 38 रन का योगदान दिया. न्यूजीलैंड की तरफ से ट्रेंट बोल्ट ने दो विकेट चटकाए जबकि एक विकेट मिचेल सेंटनर के खाते में गया.

यह दूसरा मौका है जब भारतीय खिलाड़ियों को न्यूजीलैंड में खेली गई किसी द्विपक्षीय सीरीज को अपने नाम कर पाने में कामयाबी मिली है. इससे पहले साल 2009-10 में महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई वाली भारतीय क्रिकेट टीम में यह उपलब्धि हासिल की थी.