लंदन में गणतंत्र दिवस पर भारतीय उच्चायोग के बाहर अलगाववादी संगठनों द्वारा तिरंगा जलाए जाने की खबरों को लेकर ब्रिटेन की सरकार ने अफसोस जताया है. सोमवार को विदेश एवं राष्ट्रमंडल कार्यालय (एफसीओ) ने कहा कि अलगाववादी संगठनों के इस कदम को लेकर वह निराश हैं. पीटीआई के मुताबिक एफसीओ के प्रवक्ता ने कहा, ‘हम इस बात को लेकर निराश हैं कि किसी ने भारतीय ध्वज जलाने का कदम उठाया...हम भारत को गणतंत्र दिवस की बधाई देते हैं और अपने संबंधों को और प्रगाढ़ करने की आशा करते हैं क्योंकि हम यूरोपीय संघ से बाहर निकलने वाले हैं और विश्व के अहम देशों के साथ नयी साझेदारी करने वाले हैं.’

वहीं, स्कॉटलैंड यार्ड (पुलिस) ने कहा है कि शनिवार को हुई इस घटना के लिए जिम्मेदार परिस्थितियों का पता लगाने की कोशिश की जा रही है. मेट्रोपोलिटन पुलिस ने अपने एक बयान में कहा, ‘इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है. किसी तरह का आपराधिक कार्य किए जाने की कोई रिपोर्ट भी दर्ज नहीं कराई गई है. लेकिन, हम सोशल मीडिया पर आए एक वीडियो से अवगत हैं और इसकी वजह का पता लगाने के लिए काम कर रहे हैं.’

बीते शनिवार को लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग के बाहर कुछ ब्रिटिश सिख और कश्मीरी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया था. ये प्रदर्शनकारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ तख्तियां दिखा रहे थे और भारत विरोधी नारे लगा रहे थे. इसके बाद कुछ वीडियो सामने आए हैं जिनमें इस प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारी तिरंगा जलाते नजर आ रहे हैं.