‘केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनी तो हम हर गरीब के लिए न्यूनतम आय की गारंटी देंगे.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात छत्तीसगढ़ के रायपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए कही. साथ ही उन्होंने कहा है, ‘इस ​व्यवस्था से भारत का हर गरीब न्यूनतम आय हासिल करने में सक्षम हो सकेगा. इसका यह मतलब भी है कि देश में न तो कोई भूखा रहेगा और न ही कोई गरीब होगा.’ राहुल गांधी ने इसे कांग्रेस का विचार और वादा बताया. इसके आगे उनका कहना था, ‘मैं समझता हूं कि नए भारत का निर्माण तब तक नहीं हो सकता जब तक कि देश का हर भाई-बहन गरीबी के अभिशाप से मुक्त न हो जाए.’

‘भाजपा के साथ गठबंधन में शिव सेना की भूमिका बड़े भाई की रहेगी.’  

— संजय राउत, शिवसेना के नेता

संजय राउत ने यह बात पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही. उन्होंने यह भी कहा कि आगामी आम चुनाव के मद्देजनर भाजपा की तरफ से शिव सेना के पास गठबंधन के लिए फिलहाल कोई प्रस्ताव नहीं आया है. जो लोग शिव सेना के साथ गठबंधन के इच्छुक हैं वे इसके बारे में हमसे बात कर रहे हैं. संजय राउत के मुताबिक शिव सेना, भाजपा से किसी तरह के गठबंधन प्रस्ताव मिलने का इंतजार भी नहीं कर रही.


‘वे हद पार कर रहे हैं, कांग्रेस अपने विधायकाें को नियंत्रण में रखे.’  

— एचडी कुमारस्वामी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री

एचडी कुमारस्वामी का यह बयान कांग्रेस के नेता सी पुट्टारंगा शेट्टी के एक बयान पर पलटवार करते हुए आया है. उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस को अपने नेताओं के बयानों पर ध्यान देना चाहिए. हालांकि मैं इस पर बात करने के लिए सही व्यक्ति नहीं हूं. लेकिन इतना ज़रूर कहूंगा कि वे (कांग्रेस के नेता) अगर यही सब करते रहना चाहते हैं तो मैं मुख्यमंत्री का पद छोड़ने को हूं.’ इससे पहले सी पुट्‌टरंगा शेट्‌टी ने कहा था कि वे अब भी सिद्धारमैया को ही अपना मुख्यमंत्री मानते हैं.


‘कांग्रेस के लिए ओआरओपी का मतलब ओनली राहुल और ओनली प्रियंका है.’  

— अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष

आमित शाह ने यह बात हिमाचल प्रदेश में एक रैली के दौरान कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कही. उन्होंने कहा कि केंद्र की सत्ता संभालने के ​एक साल के भीतर ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेना के पूर्व सैनिकों के लिए ओआरओपी यानी ‘वन रैंक वन पेंशन’ का वादा निभाया. लेकिन कांग्रेस ने ओआरओपी के नाम पर सिर्फ ‘ओनली राहुल ओनली प्रियंका’ दिया है. इस मौके पर अमित शाह ने हिमाचल प्रदेश के लोगों से आगामी आम चुनाव में नरेंद्र मोदी को अपार बहुमत से जीत दिलाने अपील भी की.


‘भारत से बातचीत के लिए यह सही वक्त नहीं है.’  

— फवाद चौधरी, पाकिस्तान के सूचना मंत्री

फवाद चौधरी ने यह बात एक इंटरव्यू में कही है. उन्होंने कहा कि भारत में चुनाव का माहौल बनना शुरू हो गया है. इन परिस्थितियों में दोनों देशों का बातचीत करना उचित नहीं होगा. उन्होंने आगे कहा, ‘भारत की जनता जिस भी पार्टी व नेता को चुनकर सत्ता सौंपेगी हम उसका सम्मान करेंगे.’ फवाद चौधरी के मुताबिक पाकिस्तान को इस बात से कोई फर्क का नहीं पड़ता कि आगामी आम चुनाव के बाद भारत का नेतृत्व नरेंद्र मोदी करते हैं या फिर राहुल गांधी.