उत्तर प्रदेश के प्रयागराज (इलाहाबाद) में एक तरफ़ अर्ध कुंभ का आयोजन जारी है. दूसरी तरफ मंगलवार को यहीं पर राज्य के योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल की बैठक भी हो रही है.

ख़बरों के मुताबिक प्रयागराज में अर्ध कुंभ जैसे आयोजन के दौरान पहली बार योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल की बैठक हो रही है. बल्कि राजधानी लखनऊ से बाहर भी मंत्रिमंडल की यह पहली ही बैठक है. यह बैठक सुबह 11.00 बजे शुरू हुई है. इसके बाद बताया जा रहा है कि पूरा योगी मंत्रिमंडल तीन नदियों (गंगा, यमुना और सरस्वती) के पवित्र संगम में स्नान भी करेगा.

आगामी लोक सभा चुनाव के लिहाज़ से 80 सीटों वाले उत्तर प्रदेश के राजनीतिक महत्व को देखते हुए इस बार का अर्ध कुंभ आयोजन पहले से ही चुनावी रंग में रंगा है. योगी आदित्यनाथ सरकार ने इस आयोजन को विस्तृत और प्रभावी बनाने के लिए 4,200 करोड़ रुपए खर्च किए हैं. इसके बाद अब यहां योगी मंत्रिमंडल की बैठक से यह चुनावी रंग थोड़ा और गहरा हुआ है.

यह बैठक इसलिए भी अहम है कि आगामी 31 जनवरी और एक फरवरी को यहीं विश्व हिंदू परिषद की बैठक भी होने वाली है. इसमें राम मंदिर निर्माण पर आगे की रणनीति तय होगी. इसी के मद्देनज़र ग़ाैर करने लायक एक बात ये भी कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम काेर्ट में अभी हाल ही में एक याचिका दायर की है. इसमें अपील की है कि अयोध्या की गैर-विवादित जमीन उसे वापस दे दी जाए.