केंद्र सरकार ने नौकरी करने वालों के लिए बड़ा एलान किया है. उसने टैक्स छूट की सीमा ढाई लाख से बढ़ा कर पांच लाख कर दी है. संसद में बजट पेश करते हुए केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि पांच लाख तक सालाना आमदनी वालों को अब कोई टैक्स नहीं देना होगा. खबरों के मुताबिक इस घोषणा के बाद संसद में ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगाए गए.

इसके अलावा पीयूष गोयल ने घोषणा कि अगर 6.5 लाख रुपये तक की कमाई करने वाले लोग प्रोविडेंट फंड और अन्य इक्विटीज में निवेश करते हैं तो उन्हें कोई टैक्स नहीं देना होगा. केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि स्टैंडर्ड डिडक्शन को 40 हजार रुपये से बढ़ाकर 50 हजार रुपये किया गया है.

इन घोषणाओं से पहले कार्यवाहक वित्त मंत्री ने करदाताओं का शु्क्रियादा किया. उन्होंने कहा कि करदाताओं के पैसे से ही देश का विकास होता है. गोयल ने बताया कि टैक्स भरने वालों की संख्या 80 फीसदी तक बढ़ी है और 2018- 19 में सरकार ने करीब 12 लाख करोड़ का टैक्स जमा किया है.