विश्व हिंदू परिषद् (विहिप) की तरफ से उत्तर प्रदेश के प्रयाग राज में आयोजित धर्म संसद के दौरान शुक्रवार को जोरदार हंगामा देखने को मिला. स्क्रोल डॉट इन के मुताबिक कार्यक्रम में जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत अपना भाषण दे रहे थे तो भीड़ ने शोर मचाना शुरू कर दिया. उस दौरान कुछ लोगों ने ‘जय श्रीराम’ तो कुछ लोगों ने ‘मंदिर निर्माण की तारीख बताइये भागवत जी’ के नारे लगाए. बताया जाता है कि इस हंगामे के बाद आयोजकों और आम लोगों के बीच हाथापाई भी हुई.

उधर, इस मौके पर मोहन भागवत ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर भाजपा सरकार की मंशा स्पष्ट है और यह देखना होगा कि सरकार इसे कैसे सुनिश्चित करती है. उनका यह भी कहना था कि सिर्फ कार सेवा से मंदिर बनने वाला नहीं है. मंदिर निर्माण शुरू होगा और संघ इसके लिए ताकत देगा. भागवत का यह भी कहना था कि अयोध्या में सिर्फ वोटरों को खुश करने के लिए मंदिर नहीं बनेगा. वहां मंदिर बने ऐसा जनता का मन है. यदि जनता का मन है तो वहां मंदिर अवश्य बनेगा.

इससे पहले बीते बुधवार को प्रयागराज में ही संतों की धर्म संसद के समापन मौके पर शंकरचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने भी राम मंदिर निर्माण पर बड़ा बयान दिया था. तब उन्होंने कहा था कि इसी महीने की 21 तारीख को राम मंदिर का शिलान्यास किया जाएगा. उनका यह भी कहना था कि अयोध्या में भव्य मंदिर के निर्माण के लिए अगर उन्हें गोली का सामना भी करना पड़ा तो वे उसके लिए भी तैयार रहेंगे.

अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद का विवाद सुप्रीम कोर्ट में लंबित है. इस मामले पर बीते महीने की 29 तारीख को सुनवाई होनी थी. लेकिन तब उस मामले को सुनने वाली पांच जजों की खंडपीठ के एक जज जस्टिस एसए बोबड़े के अवकाश पर जाने से सुनवाई टाल दी गई थी. मामले की सुनवाई के लिए अगली तारीख फिलहाल घोषित नहीं की गई है.